Wednesday, June 3rd, 2020

मलाइका अरोड़ा और अरबाज खान के रिश्ते से लेने वाले सबक

प्यार से लेकर तलाक... मलाइका अरोड़ा और अरबाज खान के रिश्ते से लेने वाले 8 सबकमलाइका अरोड़ा और अरबाज खान कभी बॉलिवुड की दुनिया के सबसे इंसपरेशनल कपल हुआ करते थे। इनका प्यार, बॉन्डिंग, आपसी समझ सबकुछ परफेक्ट सा लगता था। ऐसे में जब दोनों के अलग होने की खबरें आईं तो फैन्स भी शॉक्ड रह गए। प्यार से शुरू हुआ यह रिश्ता तलाक तक भले ही पहुंच गया हो, लेकिन फिर भी मलाइका और अरबाज के रिश्ते में कुछ ऐसी खास बातें हैं, जो दूसरों के लिए भी सबक का काम कर सकती हैं।

प्यार में धर्म का बंधन नहीं
मलाइका अरोड़ा और अरबाज खान को जब प्यार हुआ तो उन्होंने धर्म को अपने रिश्ते में आड़े नहीं आने दिया। वैसे खान परिवार इस चीज को लेकर पहले से ही काफी सुलझे हुए ख्यालों का रहा है। सलमान की मां भी हिंदू थीं और उन्होंने सलीम खान से शादी की थी। ऐसे में धर्म किसी भी तरह से प्यार में मुश्किल खड़ा करता नहीं दिखा। दोनों ही सिलेब्रिटी ने आपसी समझ और लगाव को इस सबसे ऊपर रखते हुए डेटिंग और फिर शादी का फैसला लिया।

जिंदगी के हर उतार-चढ़ाव में साथ बने रहना
मलाइका और अरबाज ने जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव साथ देखे। अरबाज का बतौर ऐक्टर फेल होना लेकिन डायरेक्शन में सफलता मिलना और 'दबंग' जैसी सुपरहिट फिल्म देना... इस पूरी जर्नी में मलाइका उनके साथ बनी रहीं। वहीं अरबाज ने भी मलाइका के भी करियर के स्ट्रगल में उनका साथ दिया।

सफलता से जलन नहीं बल्कि सपॉर्ट करना
एक दौर में मलाइका सिर्फ खान परिवार की बहू थीं, लेकिन बाद में उनके ग्लैमरस अंदाज और टीवी रिऐल्टी शोज में उनकी अपीयरेंस ने उन्हें अलग ही लेवल की पॉप्युलैरिटी दे दी। इस बीच अरबाज खान की पॉप्युलैरिटी ऐवरेज से भी कम ही रही, लेकिन यह बात कभी इनके रिश्ते में आड़े नहीं आई। वहीं मलाइका ने भी सक्सेस को हावी नहीं होने दिया और अरबाज के उतरते चढ़ते करियर में डटकर उनके साथ खड़ी रहीं।

जबरन रिश्ता खींचने की जगह मजबूत निर्णय लेना
इस बात में कोई शक नहीं कि मलाइका और अरबाज दोनों ही एक-दूसरे से बहुत प्यार करते थे। लेकिन कुछ चीजों के कारण दोनों के बीच हालात इतने बिगड़े कि दोनों ने अलग होने को ही सबसे बेहतर निर्णय के रूप में चुना। यह निर्णय भी किसी एक का नहीं रहा बल्कि दोनों इसे यह सोचते हुए लिया कि रिश्ते को जबरन खींचने से अच्छा है कि खुशहाल भविष्य के लिए राहें अलग कर दी जाएं।

जब आई बेटे की बात
बेटे को लेकर मलाइका और अरबाज दोनों ही प्रटेक्टिव हैं। झगड़े और तलाक का नेगेटिव असर उन्होंने अरहान पर न पड़े इसके लिए उन्होंने पूरी कोशिश की। अरबाज और मलाइका दोनों ही यह बात इंटरव्यू में बता चुके हैं कि उनके बीच क्या चल रहा है इसे लेकर उनके बेटे को हिंट थी। इसका मतलब ही यह है कि यह पूर्व कपल अपने बेटे के सामने झगड़ता तक नहीं था। वहीं जब कस्टडी की भी बात आई तो अरबाज ने लड़ने की जगह इस बात को सहजता से स्वीकार किया कि बच्चे को मां की ज्यादा जरूरत होती है।

नीचा दिखाने की जगह सम्मान के साथ राहें जुदा करना
न तो मलाइका और न ही अरबाज ने कभी भी किसी भी तरह से एक-दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश की। जब यह बात सामने आई कि अरबाज के जुआ खेलने की आदतों के कारण फाइनेंशियल क्राइसिस में बार-बार पड़ जाने से रिश्ता बिगड़ा था तो तब भी दोनों में से किसी ने इसे नीचा दिखाने के मौके के रूप में नहीं देखा और रिश्ते की गरिमा बनाए रखी। अभी भी दोनों एक-दूसरे का जिक्र करते हैं तो उनके बोली में सम्मान झलकता ही है।

इट्स नेवर टू लेट फॉर लव
प्यार का रिश्ता भले ही तलाक के साथ खत्म हुआ लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं कि प्यार फिर से जिंदगी का हिस्सा नहीं बन सकता। यह सबक भी मलाइका और अरबाज से लिया जा सकता है। मलाइका इन दिनों जहां ऐक्टर अर्जुन कपूर को डेट कर रही हैं वहीं अरबाज मॉडल जॉर्जिया एंड्रियानी के साथ रिलेशन में हैं।

समाज क्या कहेगा इसकी फिक्र न करना
एक और बात जो मलाइका और अरबाज से सीखी जा सकती है वह यह कि इसकी चिंता न करना कि समाज क्या कहेगा। इन दोनों ने अलग धर्म का होने पर शादी करने पर लोग क्या सोचेंगे, तलाक ले लिया तो लोग क्या सोचेंगे, फिर से रिलेशनशिप में हैं तो लोग क्या सोचेंगे... जैसी चीजों से ज्यादा प्राथमिकता इस बात को दी कि दोनों के लिए बेस्ट निर्णय क्या रहेगा, ताकि दोनों ही सम्मान और खुशी से अपना जीवन जी सकें।

Source : Agency

आपकी राय

8 + 8 =

पाठको की राय