Friday, April 3rd, 2020

कोरोना वायरस: हालात बिगड़े तो आंबेडकर स्टेडियम और अरुण जेटली स्टेडियम में रखे जाएंगे संदिग्ध

 नई दिल्ली
दिल्ली में अभी कोरोना की स्थिति नियंत्रित है, लेकिन दुनियाभर के बड़े शहरों में जिस तरह इससे त्रासदी आई है, उसे देखते हुए दिल्ली में बड़े स्तर पर तैयारियां की जा रही है। अगर राजधानी में इस संक्रमण की वजह से हालात खराब होते हैं, तो आंबेडकर स्टेडियम और अरुण जेटली स्टेडियम (जो कभी फिरोजशाह कोटला स्टेडियम था) को क्वारंटीन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। होटल ललित को भी हायर कर उसे डॉक्टरों के लिए क्वारंटीन सुविधा की योजना बनाई जा रही है।
एलएनजेपी में बने 7 मंजिला ऑर्थोपेडिक बिल्डिंग को पूरी तरह कोरोना क्वारंटीन सुविधा के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है। कोरोना के मैनेजमेंट के लिए दिल्ली सरकार की एलएनजेपी अस्पताल में हुई बैठक में यह फैसला किया गया। कोरोना से हालात खराब होने पर दिल्ली गेट पर बने अरुण जेटली स्टेडियम और आंबेडकर स्टेडियम को क्वारंटीन सुविधा के लिए इस्तेमाल करने पर विचार किया जा रहा है। मिनट्स ऑफ मीटिंग के अनुसार, एलएनेपी अस्पताल में पार्किंग एरिया के पास स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जाएगी।

अस्पताल में टास्क फोर्स
एलएनजेपी अस्पताल में कोरोना के मैनेजमेंट के लिए टास्क फोर्स बनाने पर सहमति बनी है। टास्क फोर्स की अगुवाई मेडिसिन विभाग के एचओडी करेंगे, जबकि इसमें कम्यूनिटी मेडिसिन, एनेस्थीसिया, सर्जरी, माइक्रोबायोलॉजी, पीडिएट्रिक्स, ईएनटी और गायनी विभाग को शामिल किय गया है। टास्क फोर्स का मुख्य काम इस सुविधा में लगे मैनपावर को मैनेज करना है।

सात मंजिला बिल्डिंग में इलाज
एलएनजेपी अस्पताल के परिसर में बनी ऑर्थोपेडिक की बिल्डिंग के 7 फ्लोर में से अभी दो-तीन फ्लोर ही इस्तेमाल हो रहे हैं। अब प्रशासन पूरी बिल्डिंग को कोरोना मरीजों के इलाज में इस्तेमाल करने पर विचार कर रहा है। वहीं, आर्थोपेडिक ब्लॉक को सर्जिकल ब्लॉक में शिफ्ट करने पर भी बात हुई। यह भी फैसला हुआ कि मेडिकल ब्लॉक को सिर्फ कोरोना की सुविधा के लिए तैयार किया जाए। जितने भी नॉन कोरोना मरीज हैं, उन्हें सर्जिकल ब्लॉक में शिफ्ट किया जाए, इससे कोरोना के मरीजों के मैनेजमेंट में आसानी होगी।

Source : Agency

आपकी राय

7 + 4 =

पाठको की राय