Tuesday, August 11th, 2020
Close X

तहखाने को कभी न छोड़ें खाली, रसोई में न लगाएं दर्पण

घर के भीतर कई ऐसी बातें होती हैं जो कि वास्तु के अनुरूप नहीं। न ही कभी इनकी तरफ हमारा ध्यान जाता है और न ही कभी इनके बारे में आमतौर पर सुना जाता है। ऐसी कई बातें हमारे घर में नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने का काम करती हैं। आइए जानते हैं वास्तु में बताए गए कुछ आसान से उपायों के बारे में जिनकी सहायता से हम इन दोषों को दूर कर सकते हैं।

घर की छत पर लगी पानी की टंकी को यूं ही किसी भी जगह लगा दिया जाता है, लेकिन हमेशा ध्यान रखें कि पानी के टैंक के ठीक नीचे किसी कमरे में बेड तो नहीं आ रहा। अगर ऐसा हो तो टैंक या बेड को थोड़ा खिसका दें। ओवरहेड टैंक का ऊपरी भाग गोल होना चाहिए। जलसंग्रह का स्थान घर के पश्चिम भाग में शुभ माना जाता है। अगर घर से निकलने वाले व्यर्थ जल का प्रवाह रुक रहा है तो इसे अशुभ माना जाता है। व्यर्थ जल का प्रवाह ठीक से होना चाहिए। घर के किसी नल से पानी का रिसाव नहीं होना चाहिए। पानी का बर्तन रसोईघर के उत्तर-पूर्व या पूर्व में भरकर रखें। रसोई में कभी भी दर्पण नहीं लगाएं। घर को तीन माह से अधिक समय तक खाली न छोड़ें। कभी भी तहखाने को खाली न रखें। बाथरूम और शौचालय के दरवाजे जितना संभव हो उतना बंद रखें।

Source : Agency

आपकी राय

12 + 2 =

पाठको की राय