Saturday, August 8th, 2020
Close X

MMRDA ने अस्थायी COVID अस्पताल बनाने में लगाए 53 करोड़ रुपये, एक बेड पर खर्च किए ढाई लाख

नई दिल्ली 
मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (MMRDA) ने बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (BKC) में एक अस्थायी COVID अस्पताल स्थापित करने पर 53 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। MMRDA ने RTI कार्यकर्ता अनिल गलगली को सूचित किया कि उसने BKC में COVID अस्पताल के निर्माण के लिए 53 करोड़ रुपये खर्च किए। यहां 2,118 बेड उपलब्ध कराए गए हैं, प्रत्येक बेड का खर्च 2,50,000 रुपये है। गलगली ने MMRDA से चरण 1 और चरण 2 में निर्मित सुविधा केंद्र के बारे में जानकारी मांगी थी। एमएमआरडीए के बयान में दी गई जानकारी के अनुसार, इस अस्पताल पर कुल 53 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। पहले चरण में, सिविल और इलेक्ट्रिकल पर 14.21 करोड़ रुपये खर्च किए गए जबकि दूसरे चरण में 21.55 करोड़ रुपये खर्च किए गए। दोनों चरणों में स्थापित कुल बेड की संख्या 2,118 है। पहले चरण में, उपकरण और सामग्री पर 5.26 करोड़ रुपये खर्च किए गए और दूसरे चरण में 12.06 करोड़ रुपये खर्च किए गए। इन सुविधाओं में ऑक्सीजन, आईसीयू, डायलिसिस और ट्राइएज शामिल हैं। गलगली ने कहा कि अगर इसके लिए टेंडर न भी निकाले गए हों तो, एमएमआरडीए को अपनी वेबसाइट पर सभी खर्च की जानकारी को अपलोड करना चाहिए ताकि कोई भी आसानी से इसे देख सके।

महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 7862 नए केस सामने आए हैं। इसी के साथ राज्य में कोरोना संक्रमण के कुल केसों की संख्या 238461 पहुंच गई है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक राज्य में कोरोना वायरस के पिछले 24 घंटे में 226 की जान जाने के साथ ही मौत का कुल आंकड़ा 9893 पहुंच गई है। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण से अभी तक 132625 लोग रिकवर हो चुके हैं। अच्छी बात ये रही है कि शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 5366 लोग ठीक भी हुए हैं। वहीं, मुंबई की सबसे बड़ी मलिन बस्ती धारावी में शुक्रवार को कोविड-19 के 12 नए मामले आने के साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 2359 हो गई है। यह जानकारी बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के एक अधिकारी ने दी। नगर निकाय ने हालांकि पिछले कुछ दिनों से इस क्षेत्र में कोविड-19 संबंधी मौतों की जानकारी देनी बंद कर दी है। अधिकारी ने कहा कि धारावी में इस समय 166 मरीजों का उपचार चल रहा है और 1952 मरीजों को अब तक अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है।
 

Source : Agency

आपकी राय

9 + 15 =

पाठको की राय