Business News : RBI ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया, रेपो रेट 6.50% पर बरकरार

Business News : दूसरी बार रेपो रेट में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। यानी आपकी ईएमआई नहीं बढ़ेगी। कर्ज महंगे नहीं होंगे।

Latest Business News : उज्जवल प्रदेश, नई दिल्ली. आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस वित्त वर्ष की दूसरी मौद्रिक नीति का ऐलान कर दिया है। लगातार दूसरी बार रेपो रेट में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। यानी आपकी ईएमआई नहीं बढ़ेगी। कर्ज महंगे नहीं होंगे। मौद्रिक नीति समिति की बैठक के बाद आज आरबीआई ने मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए कहा कि रेपो रेट 6.5% पर अपरिवर्तित रहेगा।

मौद्रिक नीति के ऐलान से पहले बाजार की सुस्त शुरुआत

भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले शेयर बाजार की शुरुआत आज सुस्त रही। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स गुरुवार को 2.79 अंकों की मामूली गिरावट के साथ 62917 के स्तर पर खुला। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 18725 के स्तर से आज के दिन के कारोबार की शुरुआत की।

पॉलिसी रेपो रेट और उधार दरों की प्रवृत्ति

पॉलिसी रेपो रेट में पिछली यथास्थिति के बाद से उधार दरों की मिश्रित प्रवृत्ति रही है। RBI के डेटा से पता चला है कि SCB के नए रुपये के ऋण पर भारित औसत उधार दर (WALR) 23 आधार अंकों (bps) से घटकर मार्च 2023 में 9.32 प्रतिशत से अप्रैल 2023 में 9.09 प्रतिशत हो गई।
एससीबी की फंड आधारित उधार दर (एमसीएलआर) की 1-वर्ष की औसत सीमांत लागत मई 2023 में 8.60% पर अपरिवर्तित रही।

मौद्रिक नीति से पहले निफ्टी क्या गुल खिलाएगा

आरबीआई की मौद्रिक नीति से पहले निफ्टी ने मोटे तौर पर तेजी के नोट पर प्रदर्शन किया है। बेंचमार्क फिलहाल 18,730 के करीब है, लेकिन पिछले पांच कारोबारी सत्रों में इस 50-अंकों के सूचकांक में 1% से अधिक की वृद्धि हुई है। आरबीआई की नीति सुर्खियों में आने के साथ ही 8 जून को निफ्टी और मोटे तौर पर बाजार की धारणा सकारात्मक दिख रही है। उम्मीद है कि निफ्टी जल्द ही 18,887.60 के अपने ऑल टाइम हाई को पार कर सकता है।

64 अर्थशास्त्रियों को रेट में बदलाव नहीं होने की उम्मीद

एक Refinitiv पोल के अनुसार, सभी 64 अर्थशास्त्रियों को उम्मीद है कि RBI की 6-8 जून की बैठक के समापन पर 6.50% रेपो दर में कोई बदलाव नहीं होगा। ब्रोकरेज रिलायंस सिक्योरिटीज का भी मानना है कि आरबीआई 8 जून को 6.5% पर अपरिवर्तित दर रख सकता है और बैंक पिछले एक साल में बढ़ोतरी की श्रृंखला के आर्थिक प्रभाव को देखने के लिए इंतजार कर सकता है।

रेपो रेट में अब तक 2.50 फीसदी की वृद्धि

अप्रैल में पिछली एमपीसी बैठक में आरबीआई ने ब्याज रेट वृद्धि को रोक दिया था और रेपो रेट को 6.5 फीसद पर कायम रखा था। इससे पहले महंगाई पर लगाम लगाने के लिए मई 2022 के बाद से लगातार वृद्धि करते हुए नीतिगत रेट रेपो में 2.50 फीसद वृद्धि की गई थी। एमपीसी की बैठक उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुरेटा मुद्रास्फीति के अप्रैल में 18 महीनों के निचले स्तर 4.7 फीसद पर आने के बाद हो रही है।

Related Articles

Back to top button