केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सीयूसेट के तहत आवेदन , 13 भाषाओं में आयोजित होगा सीयूसेट

नई दिल्ली

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की ओर से आयोजित सेंट्रल युनिवर्सिटी कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (सीयूसेट) के माध्यम से शनिवार से विद्यार्थी डीयू, जेएनयू, जामिया सहित अन्य केंद्रीय विश्वविद्यालयों में स्नातक में दाखिले के लिए आवेदन कर सकते हैं।
ऐसा पहली बार है जब स्नातक के सभी विषयों के दाखिले डीयू सीयूसेट के अंकों के आधार पर करेगा। वहीं, जामिया ने पहले ही स्पष्ट किया है वह केवल आठ विषयों के दाखिले सीयूसेट के माध्यम से देगा। दिल्ली विश्वविद्यालय की ओर से इस वर्ष भी 12वीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को स्नातक आवेदन में किसी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए ओपन डेज का आयोजन किया जाएगा। डीयू के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ओपन डेज की स्वीकृति मिल गई है। इसे अगले सप्ताह आयोजित किया जाएगा।

स्पोर्ट्स, ईसीए को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं
डीयू के कॉलेज हर साल अधिकतम पांच फीसदी सीटों पर स्पोर्ट्स और ईसीए के माध्यम से दाखिला देते हैं। यहां इसके लिए ट्रायल होता था और उसके आधार पर मेरिट बनती थी। इस बार प्रवेश परीक्षा के आधार पर दाखिला होगा लेकिन स्पोर्ट्स और ईसीए के लिए ट्रायल के आधार पर अंकों के निर्धारण की बात समिति में हुई थी। हालांकि, अभी तक इसको लेकर कोई अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। डीयू के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि इस विषय को लेकर समिति बन गई है और जल्द ही इसके बारे में भी घोषणा हो जाएगी।

जामिया में आठ विषयों के लिए होगा टेस्ट
जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जेएमआई) 2022-23 शैक्षणिक सत्र से स्नातक पाठ्यक्रमों में छात्रों को दाखिला देने के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) को अपनाएगा। विश्वविद्यालय के शीर्ष अधिकारियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि चुनिन्दा स्नातक कोर्स में एडमिशन सीयूईटी के माध्यम होगा। विश्वविद्यालय ने इसके बारे में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) को सूचना दे दी है। विश्वविद्यालय ने कहा है कि छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे पाठ्यक्रम और अन्य विवरण के बारे में अपडेट के लिए विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.jmi.ac.in और http://jmicoe.in को नियमित रूप से देखें। जो छात्र उन पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने के इच्छुक हैं, उन्हें सीयूईटी के साथ-साथ जेएमआई के ऑनलाइन फॉर्म भरने होंगे। पिछले अभ्यास के अनुसार विश्वविद्यालय जेईई में स्कोर के आधार पर बी.टेक पाठ्यक्रम में छात्रों को एडमिशन देगा और बीडीएस पाठ्यक्रम में एडमिशन एनईईटी में स्कोर के आधार पर किया जाएगा। बी.टेक उम्मीदवारों को जेईई के अलावा, जेएमआई फॉर्म भी भरना अनिवार्य है।

Related Articles

Back to top button