IITs नहीं, गैर IITs में मिल रहे जबर्दस्त सैलरी पैकेज

 कोलकाता
अगर आप सोचते हैं कि सिर्फ आईआईटीज में ही इंजिनियरिंग रोल के लिए जबर्दस्त और बंपर सैलरी पैकेज ऑफर किए जाते हैं तो आप गलत हैं। इस साल की शुरुआत में रिक्रूटर्स ने उन टॉप इंजिनियरिंग कॉलेजों में भी अपनी खूब दिलचस्पी दिखाई है जो इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (आईआईटी) सिस्टम का हिस्सा नहीं हैं। बीआईटीएस पिलानी यूनिवर्सिटी, डीटीयू और एनआईटी वारंगल जैसे संस्थानों में हाल के कुछ सालों के मुकाबले अब रिक्रूटर्स कैंपस में जबर्दस्त सैलरी पैकेज के साथ आ रहे हैं। इनमें से ज्यादातर कॉलेजों में जुलाई अंत और अगस्त में फाइनल प्लेसमेंट होता है जबकि पुराने आईआईटीज में इनके बाद 1 दिसंबर से प्लेसमेंट शुरू होता है। 
 
आंकड़ों की नजर से देखें हायरिंग का मिजाज
बीआईटीएस पिलानी के कैंपस में ऐकडेमिक इयर 2018-19 में 450 ऑफर्स मिले जबकि पिछले साल 384 ऑफर मिले थे यानी 17.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। 

बीआईटीएस के चीफ प्लेसमेंट ऑफिसर जी.बालासुब्रमण्यन ने बताया, 'प्रीप्लेसमेंट ऑफर में 43.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। ऐकडेमिक इयर 2018-19 में प्रीप्लेसमेंट ऑफर 126 मिले हैं जबकि पिछले साल सिर्फ 88 ऑफर मिले थे।' 

बीआईटीएस पिलानी यूनिवर्सिटी में यूएस की दिग्गज टेक कंपनी ने 98.3 लाख रुपये सालाना का टॉप सैलरी पैकेज दिया जबकि पिछले साल केपीआईटी टेक्नॉलजी सबसे ज्यादा 44.2 लाख रुपये का टॉप पैकेज ऑफर किया था। इस तरह से सर्वाधिक सैलरी पैकेज में 122 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई। 

प्लेसमेंट के पहले महीने में ही रुबरिक (यूएस), ऊबर (यूएस) और केपीआईटी (जर्मनी) जैसी कंपनियों ने करीब 10 इंटरनैशनल ऑफर दिए जो जबकि पिछले साल इस समय तक कोई इंटरनैशनल ऑफर नहीं था। अप्रैल के अंत में समाप्त हुए 2017-18 सीजन में सिर्फ 10 इंटरनैशनल ऑफर मिले थे जबकि इस साल के पहले महीने में ही इतने ऑफर मिल गए हैं। 

देल्ही टेक्नॉलजकिल यूनिवर्सिटी (डीटीयू) में 75 से ज्यादा छात्रों को 20 लाख रुपये से ज्यादा का पैकेज मिला है जबकि पिछले साल इसी अवधि में करीब 45-50 ऑफर मिले थे। 

डीई शॉ, जिसका मुख्यालय न्यू यॉर्क में है, इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फर्म जो प्रमुख कैंपस रिक्रूटर है, ने 45 लाख रुपये प्रति साल का घरेलू सैलरी पैकेज दिया जो साल 2017-18 के मुकाबले 13.9 फीसदी ज्यादा है। कंपनी ने 2018-19 हायरिंग सीजन में गैर आईआईटी कैंपस में अब तक 18 प्रीप्लेसमेंट ऑफर और 15 फुलटाइम ऑफर दिए हैं। 

डीई शॉ देश के मुख्य आईआईटी, एनआईटी, बीआईटीएस और आईआईआईटी समेत सर्वश्रेष्ठ इंजिनियरिंग कॉलेजों से मुख्य रूप से क्वैंट डिवेलपर, सॉफ्टवेयर डिवेलपर, सिस्टम ऑपरेशन इंजिनियर और क्वॉलिटी अश्योरेंस पदों के लिए भर्ती करती है। 

डीई शॉ इंडिया में डायरेक्टर, इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी और ऑपरेटिंग कमिटी मेंबर लक्ष्मी प्रसाद कोनेती ने बताया, 'हम पूरी तरह से टॉप टैलंट को हायर करने पर फोकस करते हैं और हम मार्केटप्लेस में सफल एवं प्रतियोगी रहे, यह सुनिश्चित करने के लिए हम कठिन मेहनत करते हैं।' 

एनआईटी वारंगल में डीई शॉ ने 47 लाख रुपये का सर्वाधिक पैकेज दिया है जबकि अडॉबी ने पिछले साल 40 लाख रुपये का टॉप सैलरी पैकेज ऑफर किया था। अब तक 30 से ज्यादा कंपनियों ने कैंपस का दौरा किया और 240 से ज्यादा ऑफर मिला है। 

एनआईटी वारंगल में फैकल्टी इन चार्ज, ट्रेनिंग ऐंड प्लेसमेंट सेक्शन चिंतम वेंकैया ने बताया, 'हमारे यहां अधिक से अधिक कंपनी 10 लाख रुपये से ज्यादा का सीटीसी (कॉस्ट टू कंपनी) ऑफर करती हैं।' 

इस साल जबर्दस्त ऑफर की उम्मीद
कैंपस सूत्रों ने बताया कि प्लेसमेंट इस साल ज्यादा बेहतर रहने की उम्मीद है। कंपनियों का जबर्दस्त हायरिंग का मूड है, इंटरनैशनल ऑफर खूब आ रहे हैं और कई रिक्रूटर्स आकर्षक पैकेज ऑफर कर रहे हैं। डीटीयू में ट्रेनिंग ऐंड प्लेसमेंट डिपार्टमेंट के हेड राजेश रोहिल्ला ने बताया कि हायरिंग का सेंटिमेंट काफी पॉजिटिव है। इस साल यहां के एक छात्र को आईटी रोल के लिए 52 लाख रुपये का इंटरनैशनल ऑफर मिला है जो पिछले साल अडॉबी द्वारा मिले सर्वाधिक पैकेज से 33 फीसदी ज्यादा है। 

अलग-अलग संस्थानों के प्लेसमेंट अधिकारियों के मुताबिक, 24 लाख रुपये से ज्यादा का सैलरी पैकेज ऑफर करने वाली कंपनियों में मिंत्रा, ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट शामिल हैं। गोल्डमैन सैक्स 30 लाख रुपये से ज्यादा का सैलरी पैकेज ऑफर कर रही है जबकि माइक्रोसॉफ्ट, डीई शॉ और ऊबर जैसी कंपनियां 35-40 लाख रुपये का सैलरी पैकेज ऑफर कर रही हैं। ऊबर ने वैसे भर्तियों की संख्या का विवरण देने से इनकार कर दिया लेकिन बताया कि भारत में इसकी इंजिनियरिंग टीम में इजाफा हो रहा है। 
 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group