फिल्म डायरेक्टर, क्रिटिक और राइटर फैजल सैफ का निधन

मशहूर फिल्म डायरेक्टर, क्रिटिक और राइटर फैजल सैफ (Faisal Saif) का निधन हो गया है। 47 साल के फैजल लंबे समय से बीमार चल रहे थे और गुरुवार को मल्टीपल ऑर्गन फेल होने से उनका इंतकाल हो गया। उन्हें भायखला स्थित कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-ख़ाक किया गया। फैजल सैफ को 'जिज्ञासा' और 'अम्मा' जैसी फिल्मों के लेखन और डायरेक्शन के लिए जाना जाता था। उनके असमय निधन से फिल्म इंडस्ट्री सदमे में है।

2013 में बनाई थी पहली फिल्म
फैजल सैफ ने अपने करियर की शुरुआत स्वतंत्र म्यूजिक वीडियो डायरेक्टर के तौर पर की थी। 2013 में उन्होंने अपनी पहली फीचर फिल्म 'कम दिसम्बर' बनाई, जिसे इंडियानापोलिस एलजीबीटी फिल्म फेस्टिवल में स्टोरी टेलिंग के कल्चर विजन का इंटरनेशनल स्पेशल अवॉर्ड दिया गया था। इसके बाद फैजल ने ऋषिता भट्ट को लेकर फिल्म 'जिज्ञासा' बनाई, जो काफी विवादित रही थी।

आरोप लगा था कि 'जिज्ञासा' बॉलीवुड एक्ट्रेस और सेक्स सिंबल रहीं मल्लिका शेरावत की जिंदगी पर बेस्ड फिल्म है। हालांकि, खुद फैजल ने इस बात से इनकार किया था। इस फिल्म में ऋषिता भट्ट के अलावा कादर खान, वर्षा उसगांवकर, मिलिंद गुनाजी, विकास कलंतरी, मुकेश तिवारी, जया भट्टाचार्य, राकेश वेदी और अनुपम श्याम की भी महत्वपूर्ण भूमिका थी।

इन फिल्मों के लिए भी जाने जाते थे फैजल
फैजल सैफ ने पाकिस्तानी एक्ट्रेस मीरा को लेकर फिल्म 'पांच घंटे में पांच करोड़' का निर्माण भी किया था। उनकी अन्य फिल्मों में 'मैं हूं पार्ट टाइम किलर' शामिल है, जो काफी विवादित रही थी। इस फिल्म का ओरिजिनल टाइटल 'मैं हूं रजनीकांत' था, जिस पर रजनीकांत ने आपत्ति दर्ज कराई थी और इसकी रिलीज रुकवा दी थी। 'अम्मा' और 'डेंजर' उनकी अपकमिंग फिल्मों के टाइटल हैं, जिनकी रिलीज डेट अभी तक सामने नहीं आई है। उन्होंने 2015 में 'फॉर एडल्ट ओनली' नाम से एक फिल्म का एलान किया था  वे इस फिल्म में इंटरनेशनल एक्ट्रेस को कास्ट करना चाहते थे। लेकिन बाद में उन्होंने इसे बंद करने का एलान कर सबको हैरान कर दिया था।

'बिग बॉस' में जाने से कर दिया था इनकार
सैफ ने 2014 में टेलीकास्ट हुए 'बिग बॉस' के 8वें सीजन में बतौर कंटेस्टेंट वाइल्ड कार्ड एंट्री लेने वाले थे। लेकिन उन्होंने यह कहकर इनकार कर दिया था कि जब रजनीकांत ने उन्हें सबसे मजबूत कंटेंडर साबित कर दिया है तो वे वाइल्ड कार्ड एंट्री क्यों लें?

Related Articles

Back to top button