राधिका आप्टे की फिल्म समेत कैंसिल हो गए छह नए शोज, नेटफ्लिक्स के निशाने पर अब साउथ का सिनेमा

अकेले भारत में 100 मिलियन (10 करोड़) ग्राहक जुटाने का नेटफ्लिक्स के सीईओ रीड हेस्टिंग्स का चार साल पहले देखा सपना टूट गया है। नेटफ्लिक्स का भारत में अपना दबदबा बनाए रखने का ख्वाब तो टूटा ही है, इस ओटीटी को हिंदीभाषी दर्शकों ने भी नकारना शुरू कर दिया है। जानकारी के मुताबिक इसी के चलते नेटफ्लिक्स ने पहले से प्रस्तावित अपने छह हिंदी शोज और सीरीज कैंसिल कर दी हैं। हालांकि, नेटफ्लिक्स ने इसे एक सामान्य प्रक्रिया बताया है। लेकिन, इसमें सबसे ज्यादा चर्चा उस फिल्म की मनोरंजन जगत में हो रही है जिसके जरिए नेटफ्लिक्स की आंखों का तारा रहीं अभिनेत्री राधिका आप्टे निर्देशन के क्षेत्र में उतरने वाली थीं।    नेटफ्लिक्स ने भारत में जब करीब छह साल पहले कदम रखा था तो उसने निमार्ता निर्देशक गोल्डी बहल की बहन सृष्टि बहल को हिंदी फिल्म जगत में अपनी घुसपैठ बढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपी। सृष्टि ने ये काम किया भी लेकिन इस दौरान नेटफ्लिक्स पर ऐसा कुछ खास नजर नहीं आया जिससे हिंदी भाषी दर्शकों के बीच इसकी पहचान बनती। कभी इक्का दुक्का हिंदी फिल्में या सीरीज इस ओटीटी पर लोगों को पसंद भी आईं लेकिन फिर इसके बाद लगातार इतनी औसत कहानियां लचर मेकिंग के साथ नेटफ्लिक्स पर परोसी गईं कि लोगों का मन ही इससे ऊब गया। अमेजन प्राइम वीडियो ने बीते महीने जब अपने 22 नए शोज का एलान किया तो इसमें सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात रही इस ओटीटी का दक्षिण भारत की कहानियों पर खासा ध्यान देना। इन 22 शोज में से आठ दक्षिण भारतीय भाषाओं में बन रहे हैं। नेटफ्लिक्स भी अब इसी रास्ते पर चल पड़ा है। ओटीटी प्रबंधन ने हाल के महीनों में दक्षिण भारतीय निमार्ताओं से लगातार बैठकें की हैं और सूत्र बताते हैं कि करीब आधा दर्जन नए दक्षिण भारतीय शोज पर बात भी फाइनल हो चुकी है और ये शोज अगले साल से इस ओटीटी पर दिखने शुरू हो जाएंगे। लेकिन, इस बीच मुंबइया फिल्म इंडस्ट्री से नेटफ्लिक्स का मोहभंग होता दिख रहा है। कंपनी के सूत्रों ने बताया है कि ओटीटी पर पहले से हरी झंडी पा चुके कम से छह हिंदी फिल्मों या वेब सीरीज को नेटफ्लिक्स ने नहीं बनाने का फैसला किया है। इसमें सबसे अहम है अभिनेत्री राधिका आप्टे की वह फिल्म जिससे वह फिल्म निर्देशन में कदम रखने वाली थीं। एक और शो एक निमार्ता दंपती का भी इसमें शामिल है। नेटफ्लिक्स ने इस बारे में पूछे जाने पर ये तो जानने की कोशिश की कि उनके द्वारा निरस्त किए गए किन किन शोज की जानकारी बाहर पहुंच चुकी है लेकिन राधिका आप्टे की फिल्म कैंसिल करने की कोई वजह नेटफ्लिक्स ने नहीं बताई। ओटीटी के एक बयान के मुताबिक शोज बनना, न बनना एक रूटीन प्रक्रिया है। नेटफ्लिक्स की भारत में तरक्की अनुमान के मुताबिक न हो पाने पर हेस्टिंग्स खुद निराशा जता चुके हैं। बीते पांच साल के कंपनी आॅडिट में भी ऐसे तमाम आंकड़े सामने आए हैं जिनके मुताबिक नेटफ्लिक्स की भारतीय शाखा में कहानियां, फिल्में और सीरीज बनाने या खरीदने का काम ढंग से नहीं हुआ है। और, ये इसके बावजूद कि भारत में ओटीटी देखने वालों ने सबसे ज्यादा भरोसा नेटफ्लिक्स पर किया और कंपनी ने बीते साल ओटीटी ग्राहकों से मिली रकम में सबसे ज्यादा हिस्सा भी पाया।

Related Articles

Back to top button