विकसित राष्ट्र की ओर कदम बढ़ा रहा है भारत : प्रधानमंत्री मोदी

  • 1000 करोड़ से मध्यप्रदेश में होगा 34 रेलवे स्टेशनों का विकास
  • गत 9 वर्षों में रेलवे नेटवर्क में अभूतपूर्व विस्तार
  • हर नागरिक के लिये सुलभ और सुखद यात्रा के साथ ही रेलवे स्टेशन पर अच्छा अनुभव
  • रेलवे स्टेशन बन रहे हैं शहर और राज्यों की पहचान
  • भारतीय रेल में विकास को रफ्तार देने की अपार संभावनाएँ
  • वर्ष 2030 तक जीरो एमिशन पर चलेगी भारतीय रेल
  • अगस्त कई दृष्टियों से विशेष माह
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमृत भारत रेलवे स्टेशनों शिलान्यास समारोह में वी.सी. द्वारा संबोधन दिया
  • मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा से कार्यक्रम में शामिल हुए

भोपाल. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि आजादी के अमृत काल के प्रारंभ में ही भारत विकसित राष्ट्र होने की दिशा में नई ऊर्जा, नई प्रेरणा और नये संकल्प के साथ तेजी से कदम बढ़ा रहा है। भारतीय रेलवे के इतिहास में आज एक नये अध्याय की शुरूआज हो रही है, जब 25 हजार करोड़ रूपये की लागत से भारत के 508 रेलवे स्टेशनों का आधुनिकता के साथ विकास और पुनर्निमाण कार्य प्रारंभ हो रहा है। “अमृत भारत रेलवे स्टेशनों योजना” में देश के 1300 स्टेशनों का विकास किया जाएगा। इस उपलब्धि के लिये मैं रेलवे मंत्रालय की सराहना करता हूँ और सभी देशवासियों को बधाई देता हूँ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज अमृत भारत रेलवे स्टेशनों योजना अंतर्गत मध्यप्रदेश के विदिशा सहित देश के 508 रेलवे स्टेशनों के पुनर्निमाण कार्य के शिलान्यास कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधन दे रहे थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा स्टेशन पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस योजना में भारत के सभी राज्य लाभान्वित होंगे। मध्यप्रदेश में 1000 करोड़ रूपये की लागत से 34 रेलवे स्टेशनों का विकास और पुनर्निमाण किया जाएगा। उत्तर प्रदेश में 4500 करोड़ रूपये की लागत से 55 रेलवे स्टेशनों का और महाराष्ट्र में 1500 करोड़ रूपये की लागत से 44 रेलवे स्टेशनों का विकास होगा। राजस्थान में 55 रेलवे स्टेशनों काविकास होगा। तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल और उत्तर पूर्व के राज्यों को भी इस योजना का लाभ मिलेगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गत 9 वर्षों में भारतीय रेलवे के नेटवर्क में अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। इस दौरान भारत में साउथ अफ्रीका, यूक्रेन, पॉलेंड, यूके, स्वीडन में जितना रेलवे नेटवर्क है, उससे अधिक नेटवर्क बिछाया गया। भारत में आधुनिक ट्रेन संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। आज भारतीय रेल विकास का प्रतीक बन गई है। भारत ने विश्व की चुनौतियों का स्थाई हल निकाला है। दुनिया भर में भारत की साख बढ़ी है। दुनिया का भारत के प्रति रवैया बदला है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि रेल में हर नागरिक के लिये सुलभ और सुखद यात्रा के साथ ही उसे रेलवे स्टेशन पर अच्छा अनुभव मिले, इसके लिये सभी प्रयास किये जा रहे हैं। हर रेलवे स्टेशन पर अच्छी बैठक व्यवस्था, वेटिंग रूम, मुफ्त वाईफाई आदि सुविधाएँ दिलाई जा रही हैं। भारतीय रेल, भारत की लाइफलाइन के साथ ही अब हमारे शहरों की पहचान भी बन रही है। रेलवे स्टेशन अब ‘हार्ट ऑफ दि सिटी’ बन रहे हैं। रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण से विकास को लेकर नया माहौल बनेगा, पर्यटन बढ़ेगा और आर्थिक गतिविधियाँ तेज होंगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘वन स्टेशन वन प्रोडक्ट’ योजना से हमारे रेलवे स्टेशन अब शहर और राज्यों की पहचान बन रहे हैं। स्टेशनों पर स्थानीय विरासत और संस्कृति की झलक देखने को मिलती है। यह आधुनिक आकांक्षाओं को पूरा करने के साथ ही ऐतिहासिक विरासत के प्रतीक भी बन रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारतीय रेल में विकास को रफ्तार देने की अपार संभावनाएँ हैं। यह विकास को नये अवसर दे रही है और युवा विकास को नये पंख लगा रहे हैं। गत दिनों डेढ़ लाख युवकों को रेलवे ने पक्की नौकरी दी। भारतीय रेल का आज ढाई लाख करोड़ से अधिक का बजट हो गया है, जो वर्ष 2014 की तुलना में 5 गुना अधिक है। लोकोमोटिव के उत्पादन में 9 गुना वृद्धि हुई है और 13 गुना अधिक एचसीपी कोच बन रहे हैं। नॉर्थ-ईस्ट में रेलवे का विस्तार हो रहा है और शीघ्र की वहाँ की सारी राजधानियाँ इससे जुड़ जाएगी। माल-गाड़ियों के लिये ‘डेडिकेटेड कॉरिडोर’ बना है। माल वाहन में कम समय लगने से किसानों को सर्वाधिक फायदा हो रहा है। तेज यातायात से विश्व बाजार में हमारे उत्पाद तेजी से बिक रहे हैं। वर्ष 2014 से पहले भोपाल में रेलवे ब्रिज 6000 से भी कम थे, आज 10000 से ज्यादा हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वर्ष 2030 तक भारतीय रेल ‘नैट जीरो एमिशन’ पर चलेगी। जल्द ही शत-प्रतिशत रेलवे लाइन्स का विद्युतीकरण हो जाएगा। भारतीय रेल आधुनिकता के साथ पर्यावरण फ्रेंडली भी है। बीते 9 वर्षों में भारत के 1200 से अधिक रेलवे स्टेशनों पर सोलर पैनल से बिजली व्यवस्था हुई है, 70 हजार एलईडी लाइट्स लगी हैं और बायो टॉइलेट्स में 28 गुना वृद्धि हुई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगस्त कई दृष्टियों से विशेष माह है। यह क्रांति, कृतज्ञता और कर्तव्य का महीना है। 7 अगस्त स्वदेशी आंदोलन का दिन है, इस दिन हम वोकल फॉर लोकल का संकल्प लें। स्थानीय उत्पादों को महत्व दें। गणेश चर्तुथी पर पर्यावरण फ्रेंडली मूर्तियों की स्थापना करें। 9 अगस्त क्विट इंडिया डे है, इस दिन हम “बुराई, भ्रष्टाचार, परिवारवाद, तुष्टिकरण भारत छोड़ो” यह संकल्प लें। 14 अगस्त विभाजन की विभीषिका का दिन है, इस दिन हम उन परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करें, जिन्होंने कष्ट सहे। 15 अगस्त राष्ट्र के प्रति कृतज्ञता का दिन है, हर घर तिरंगा फहरायें। हर दिन, हर मन, हर मकान, हर सपना, हर संकल्प तिरंगा हो।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के नागरिकों द्वारा चुकाए गए टेक्स की एक-एक पाई राष्ट्र के निर्माण में उपयोग की जा रही है। देश में निरंतर टेक्स पेयर्स की संख्या बढ़ रही है, गत दिनों यह 16 प्रतिशत बढ़ी है। मोदी की गारंटी है कि 7 लाख रूपये की आय तक अब इनकम टेक्स नहीं लिया जाएगा। जनता का विकास के प्रति विश्वास बढ़ रहा है। रेलवे का कायाकल्प, मेट्रो विस्तार, एक्सप्रेस-वे, एयरपोर्टस, अस्पताल, स्कूल आदि विकास के कार्य तेजी से हो रहे हैं। यह सब बच्चों के अच्छे भविष्य की गारंटी है। नये भारत का निर्माण हो रहा है। हम सब यह संकल्प लें कि अपने नागरिक के दायित्व का भी पालन करेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश और प्रदेश में विश्वस्तरीय अधोसंरचना विकसित करने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा है कि केंद्र और मध्यप्रदेश की डबल इंजन सरकार मध्यप्रदेश में विकास और समाज के सभी वर्गो के कल्याण के कार्यों से प्रदेश को विकसित बनाएगी। आज देश और प्रदेश प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में गौरवशाली,प्रगतिशाली, समृद्धशाली और आत्मनिर्भर बन रहा है। प्रधानमंत्री मोदी विश्व स्तर के अनेक कार्यक्रमों का नेतृत्व कर रहे हैं और दुनिया मोदी और भारत का लोहा मान रहे हैं। प्रधानमंत्री द्वारा आज प्रदेश के 34 स्टेशनों के कायाकल्प का शिलान्यास प्रदेश को समृद्ध और अधोसंरचनात्मक नया स्वरूप देगा। विदिशा के स्टेशन का 28 करोड़ रूपये से कायाकल्प होगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार और सरकार में फर्क होता है। वर्ष 2014 में जहा मध्यप्रदेश के लिए रेल का बजट मात्र 632 करोड़ होता था, उसे प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में लगभग 21 गुना यानी 13 हजार 607 करोड़ रूपए किया गया है। डबल इंजन की सरकार में प्रदेश का सड़क, हवाई और रेल यातायात बेहतर हुआ है। विदिशा में शिक्षा, स्वास्थ्य, सिंचाई, अधोसंरचना के ऐतिहासिक कार्य हुए है। मुख्यमंत्री ने आमजनों को आश्वस्त किया कि उनकी सरकार प्रदेश के विकास, निर्माण और समाज कल्याण के कार्यों से प्रदेश को विकसित बनाएगी। उन्होंने विकसित मध्यप्रदेश के लिए आमजनों से सहभागिता की अपील की।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने वी.सी. के माध्यम से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश ने जल, वायु, सड़क और रेल के अधोसंरचना विकास में शानदार काम किया है। आज रेलवे का बजट लगभग ढाई लाख करोड़ रूपए हो गया है। अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत देश के 1300 स्टेशनों का कायाकल्प होना है और वर्तमान में 25000 करोड़ रुपए की राशि से देश के 508 रेलवे स्टेशन पर आधुनिक यात्री सुविधाओं के विकास के लिए निर्माण कार्य किए जाएंगे। उन्होंने आज के दिन को ऐतिहासिक दिन बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व का आभार माना और देशवासियों को शुभकामनाएँ दीं।

कार्यक्रम को सांसद रमाकांत भार्गव ने भी संबोधित किया। रेलवे बोर्ड के अपर महा प्रबंधक रविशंकर सक्सेना ने स्वागत भाषण दिया। लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, पूर्व वित्त मंत्री राघव जी, विधायक हरिसिंह सप्रे, अपर महाप्रबंधक रेलवे रविशंकर सक्सेना, डी.आर.एम. देवाशीष त्रिपाठी, जन-प्रतिनिधि और आमजन उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button