सोलर अलायंस के सभी सदस्य देशों को 25 साल बाद मुफ्त बिजली देने का सॉफ्टबैंक का वादा

सॉफ्टबैंक ने इंटरनैशनल सोलर अलायंस (आईएसए) के सभी सदस्यों को 25 साल बाद मुफ्त में बिजली की सप्लाई का ऑफर दिया है। जापानी ग्रुप के संस्थापक और सीईओ मासायोसी सन ने कहा कि प्रॉजेक्ट्स के पावर परचेज अग्रीमेंट (पीपीए) खत्म होने के बाद इन देशों को क्लीन एनर्जी की सप्लाई वह फ्री में करेगा। 
 सन ने बताया, 'अब इसमें न तो पैसे की अड़चन है और न ही टेक्नॉलजी की। 25 साल के पीपीए की अवधि के दौरान मैं अपना इनवेस्टमेंट निकाल लूंगा, उसके बाद मैं समाज के लिए कुछ करना चाहूंगा।' सन ने कहा कि सोलर पैनल को करीब 80 साल तक मेंटेन करके चलाया जा सकता है। पहले 25 साल में प्लांट 90-100 पर्सेंट की कपेसिटी के साथ काम करेंगे। उसके बाद इनकी एफिशिएंसी घटकर 85 पर्सेंट रह जाएगी और यह अगले 55 साल तक स्टेबल रहेगी। 

सन ने बताया, 'हम आज सोलर टेक्नॉलजी को समझते हैं। हमें पता है कि यह काम कैसे किया जा सकता है। हमारे पास पैसा है। टेक्नॉलजी की अड़चन भी नहीं है। जब तक सूरज चमकता रहेगा, हम यह वादा निभाएंगे।' सन ने यह बात सरकार की फ्लैगशिप रीन्यूएबल एनर्जी इवेंट री-इनवेस्ट में कही, जिसे उन्होंने बुधवार को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में पेट्रोल के दाम 20 पर्सेंट बढ़े हैं। रीन्यूएबल एनर्जी की कीमत आज सबसे कम है। यह भारत जैसे देश में एनर्जी सिक्यॉरिटी का सबसे सुरक्षित रास्ता है। 

सन ने बताया कि जापान के फुकुशिमा में साल 2011 में न्यूक्लियर प्लांट हादसे के बाद उन्होंने क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में काम करने निश्चय किया था। सॉफ्टबैंक भारत में एसबी एनर्जी के जरिए रीन्यूएबल एनर्जी सेगमेंट में है। एसबी एनर्जी सुनील मित्तल की भारती एंटरप्राइजेज और ताइवान की कंपनी फॉक्सकॉन के साथ जॉइंट वेंचर है। 

सन ने कहा, 'मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2020 तक 200 गीगावॉट और 2030 तक 500 गीगावॉट के विजन को पूरा करने में मदद करना चाहता हूं। यह कमाल की सोच है। आइए, इसे मिलकर पूरा करें।' हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स ने इस साल 4 मई को खबर दी थी कि सॉफ्टबैंक ने भारत के सोलर एनर्जी सेगमेंट में 1 लाख करोड़ डॉलर के निवेश का वादा किया है। 

सन ने बुधवार को कहा, 'भारत में सूरज की रोशनी पर्याप्त है। इसलिए मैंने यहां सोलर एनर्जी में निवेश करने का फैसला किया। सरकार इंडस्ट्री को अच्छी लैंड और दूसरी पॉलिसी से सपोर्ट कर रही है।' सॉफ्टबैंक ने पिछले साल 100 अरब डॉलर का विजन फंड तैयार किया था। उन्होंने बताया कि कई लोगों ने उन्हें रोका था। उनका कहना था कि निवेश के इतने अवसर नहीं हैं। सन ने कहा, 'मैं उन्हें गलत साबित कर रहा हूं।' 
 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group