हिंदू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते हैं: मोहन भागवत

शिकागो
अमेरिका के शिकागो में आयोजित विश्व हिंदू कांग्रेस में संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने शुक्रवार को कहा कि हिंदू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते हैं, लेकिन कुछ लोग भी हो सकते हैं जो हिंदुओं का विरोध करते हैं। संघ प्रमुख ने हिंदू समुदाय से एकजुट होकर मानव कल्याण के लिए काम करने की अपील भी की। शिकागो में आयोजित विश्व धर्म सम्मेलन में स्वामी विवेकानंद के 11 सितंबर 1893 को दिए गए चर्चित भाषण के 125 साल पूरे होने पर विश्व हिंदू कांग्रेस का आयोजन किया गया है। 
 
विश्व हिंदू सम्मेलन में करीब 2,500 लोगों को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा, ‘ हिंदू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते हैं। लेकिन कुछ ऐसे लोग भी हो सकते हैं जो हम (हिंदुओं) का विरोध करते हैं, इसलिए वे हमें नुकसान न पहुंचा पाएं, इसके लिए हमें खुद को तैयार करना होगा।’ हिंदू समुदाय से एकजुट होकर मानव कल्याण के लिए काम करने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि हिंदू समाज में प्रतिभावान लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है। 

 
हिंदू सिद्धांत से प्रेरित अपने संबोधन में भागवत ने कहा, ‘लेकिन वे कभी साथ नहीं आते हैं। हिंदुओं का साथ आना अपने आप में मुश्किल है।’ उन्होंने कहा कि हिंदू हजारों वर्षों से प्रताड़ित हो रहे हैं क्योंकि वे अपने मूल सिद्धांतों का पालन करना और आध्यात्मिकता को भूल गए हैं। सभी लोगों के साथ आने पर जोर देते हुए भागवत ने कहा, ‘हमें साथ आना होगा।’ उन्होंने कहा कि हिंदू समाज तब ही प्रगति कर सकेगा, जब वह समाज के रूप में काम करेगा। 

इस कार्यक्रम में मोदी सरकार में नीति आयोग के पूर्व वाइस चेयरमैन अरविंद पनगढ़िया भी मौजूद रहे। पनगढ़िया कोलंबिया यूनिवर्सिटी से भी जुड़े हुए हैं। हाल ही में उन्होंने मोदी सरकार से यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया था कि वह अपने निजी कारणों और अकादमिक कार्यों के चलते पद से हट रहे हैं। कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले लोगों ने एक मिनट मौन रख कर पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित लेखक वीएस नायपॉल को श्रद्धांजलि दी। 

वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की ओर से आयोजित की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत और नीति आयोग के पूर्व वाइस चेयरमैन अरविंद पनगढ़िया के अलावा वाइस प्रेजिडेंट वेंकैया नायडू भी हिस्सा लेंगे। साथ ही अभिनेता अनुपम खेर, आरएसएस के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले, इंफोसिस के पूर्व डायरेक्टर टीवी मोहनदास पाई, बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा इस सम्मेलन का हिस्सा बनेंगे। 
 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Join Our Whatsapp Group