सेना और इमरान खान आमने-सामने,पॉलिटिक्स में झुलसा पाकिस्तान,हिंसा के बाद अलर्ट

इस्लामाबाद
 पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के आजादी मार्च के कारण बुधवार से राजधानी इस्लामाबाद जल रही है। पाकिस्तान में गृह युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं। पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ पार्टी (PTI) और सरकार के बीच किसी भी तरह का समझौता नहीं हो सका है। गुरुवार को राजधानी में इमरान खान ने सरकार को छह दिनों में चुनाव की तारीखों के ऐलान का अल्टीमेटम दिया है। इससे पहले अब सरकार ने सुरक्षा के लिए सेना को बुला लिया है। संविधान की धारा 245 के तहत पाकिस्तानी सरकार ने राजधानी के रेड जोन इलाकों की सुरक्षा के लिए सेना को बुलाया है।

PTI अध्यक्ष इमरान खान और उनका काफिला राजधानी इस्लामाबाद में पहुंच चुका है। उनका काफिला जैसे ही शहर के डी-चौक की ओर बढ़ने लगा पूरे इस्लामाबाद में स्थिति अनियंत्रित होने लगी। जिसे देखते हुए सरकारी प्रतिष्ठान और कार्यालयों की सुरक्षा के लिए सरकार ने सेना को बुलाया है। इस्लामाबाद में पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक PTI कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया। इसमें कई पुलिसकर्मी घायल हुए, जिसके बाद सेना बुलाने का फैसला लिया गया है।

जब तक चुनाव का ऐलान नहीं डी-चौक नहीं छोड़ेंगे इमरान खान
इस बीच इमरान खान का काफिला संघीय राजधानी के रास्ते में हसन अब्दाल में रुका। वहां उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जैसे ही पुलिस उन्हें डी-चौक पर पहुंचेगी, यह भी महसूस होगा कि "हम यहां जिहाद के लिए हैं, राजनीति के लिए नहीं।" इमरान खान ने ऐलान किया, "हम तब तक डी-चौक नहीं छोड़ेंगे, जब तक सरकार जून में चुनाव की तारीख की घोषणा नहीं कर देती।"

इस बीच, पहले से ही डी-चौक पहुंच चुके प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ते रहे। नतीजतन, एलईए ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे। गोलाबारी बंद होते ही पीटीआई कार्यकर्ता एक बार फिर चौराहे पर जुटने लगे। यह देख पुलिस ने उन्हें एक बार फिर तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। जेयूआई-एफ के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने ट्विटर पर राजधानी में बिगड़ती कानून व्यवस्था की निंदा की। फजलुर रहमान ने कहा कि शीर्ष अदालत को सुप्रीम कोर्ट में की गई प्रतिबद्धता का उल्लंघन करने के लिए पीटीआई नेतृत्व के खिलाफ अदालती कार्यवाही की अवमानना शुरू करनी चाहिए। पीएमएल-एन नेता अयाज सादिक ने कहा कि इमरान खान ने SC के आदेश का उल्लंघन किया है और कार्यकर्ताओं को यहां आने के बजाय डी-चौक पहुंचने के लिए कहा है।

Related Articles

Back to top button