समुद्र से बैलिस्टिक मिसाइल दागने वाला पहला देश बना चीन

हांगकांग
चीन अपने शस्त्रागार में ऐसे ऐसे नये हथियारों को तैनात कर रहा है, जो ना सिर्फ पश्चिमी देशों से से उसकी प्रतिद्वंदिता दिखाता है, बल्कि कई चीनी हथियार ऐसे होते हैं, जो पश्चिमी देशों के हथियारों के नकल होते हैं। चीन पर अमेरिका की टेक्नोलॉजी को चुराने के आरोप कोई नये नहीं हैं, लेकिन इस बार दावा किया जा रहा है, कि चीन ने चोरी की टेक्नोलॉजी से ऐसी बैलिस्टिक मिसाइल तैयार कर ली है, जो पूरी दुनिया की टेंशन बढ़ाने वाला है।
 
पीएलए ने दिखाई नई मिसाइल
चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने 19 अप्रैल को एक वीडियो जारी किया है, जिसमें टाइप-055 गाइडेड-मिसाइल क्रूजर को दागते हुए देखा जा रहा है। वीडियो में जो मिसाइल दिख रही है, उसे पूरी तरह से अभी तक अज्ञात रखा गया था और दुनिया को चीन के इस नये मिसाइल के बारे में कोई जानकारी नहीं थी, लिहाजा मिसाइल देखते ही पूरी दुनिया चौंक गई। ज्यादातर डिफेंस एक्सपर्ट्स का मानना है, कि चीन ने जिस मिसाइल को लांच किया है, वो असल में एक एंटी-शिप बैलिस्टिक मिसाइल है, जिसे विश्लेषकों ने फिलहाल YJ-21 का नाम दिया है। और यदि इस YJ-21 का प्रारंभिक विश्लेषण सही है, तो चीन दुनिया का पहला ऐसा देश बन जाता है, जिसने नौसैनिक पोत से इस तरह की मिसाइल का संचालन किया है।
 

टाइप-055 क्रूजर से दागी गई मिसाइल
पीएलए ने जो वीडियो जारी किया है, उसका विश्लेषण करने वाले डिफेंस एक्सपर्ट्स का कहना है कि, YJ-21 को वूशी नाम के एक युद्धपोत, टाइप 055 क्रूजर से दागा गया है, जिसे मार्च में, यानि एक महीने पहले ही क़िंगदाओ में कमीशन किया गया था। यानि, अब यह एक सक्रिय युद्धपोत के तौर पर पीएलए की नेवी के लिए अपनी सक्रिय ड्यूटी दे रहा है और ये मिसाइल भी अब लगभग निश्चित रूप से पीएलए सेवा में है। वीडियो क्लिप में देखा जा सकता है, कि नए चीनी हथियार में छोटे पंख और एक द्वि-शंकु नाक बना है। मिसाइल की छोटी नियंत्रण सतहों से पता चलता है कि, यह सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (एसएएम) नहीं है, यानि, एक ऐसा वर्ग जिसे तेज गति वाले विमान को हिट करने के लिए अत्यंत युद्धाभ्यास की आवश्यकता होती है।
 
कैसे लांच की गई नई मिसाइल
विश्लेषकों ने बताया कि, YJ-21 को पीएलए ने अपने वूशी युद्धपोत के स्टर्न वर्टिकल लॉन्च सिस्टम (VLS) से कोल्ड-लॉन्च किया है, जिसका अर्थ ये हुआ, कि मिसाइल का इंजन स्टार्ट होने से पहले इसे गैस लांचर के जरिए सेल से बाहर निकाला गया और फिर हवा के संपर्क में आने के बाद मिसाइल प्रज्वलित हो उठी। चीनी वीएलएस सेल 9 मीटर लंबी और 850 मिमी व्यास वाली मिसाइलों को समायोजित कर सकते हैं, इसलिए YJ-21 इन मापदंडों के भीतर होना चाहिए। हालांकि, अभी तक YJ-21 मिसाइल को लेकर ज्यादा जानकारी नहीं है और इसका प्रदर्शन कैसा है या इसकी क्वालिटी क्या है, इसको लेकर ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि, इसकी मारक क्षमता एक हजार से 1500 किलोमीटर के बीच हो सकती है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि, साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट, जो पीएलए पर अपनी रिपोर्टिंग करता है, वो हमेशा सटीक जानकारी नहीं दता है। YJ-21 की रफ्तार 10-MACH यानि, आवाज की रफ्तार से 10 गुना ज्यादा तेज हो सकती है।

Related Articles

Back to top button