चीन: लॉकडाउन को लेकर भड़के लोग, भूकंप के बाद भी पुलिस घरों से नहीं निकलने दे रही बाहर

बीजिंग
पश्चिमी चीन (China) के सिचुआन प्रांत (Sichuan) में सोमवार को आए भूकंप (Earthquake) से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 74 हो गई है और 26 लोग अभी भी लापता हैं। इसके अलावा, चीन इस वक्‍त कोरोना महामारी (Covid 19) का भी कहर झेल रहा है जिसके चलते सरकार ने यहां लॉकडाउन (Lock down) की घोषणा कर दी है। इस दौरान लोग मजबूरन अपने घरों में कैद रहने को मजबूर हैं।

चीन में लोग लॉकडाउन के खिलाफ
चीन में इस वक्‍त सरकार की जीरो कोविड नीति के तहत लगाए गए लॉकडाउन की वजह से लोगों में आक्रोश है। गौरतलब है कि सोमवार दोपहर को चीन में आए 6.8 तीव्रता के भूकंप ने लोगों को सदमे में डाल दिया है। इस प्राकृतिक आपदा से जान-माल को काफी नुकसान पहुंचा है। लोगों में गुस्‍सा इस वक्‍त इसलिए है क्‍योंकि भूकंप के बाद भी यहां की पुलिस और स्‍वास्‍थ्‍य कर्मी कोरोना को लेकर इतने चिंतित हैं कि वे लोगों को अपने घरों से बाहर निकलने नहीं दे रहे हैं।

लॉकडाउन के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग
लोगों का कहना है कि एक तरफ जहां पूरी दुनिया में कोरोना संबंधी प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है, वहीं यहां सरकार सख्‍त से सख्‍त नियम अपनाई जा रही है। इसे लेकर लोग ऑनलाइन और सड़कों पर जुटकर विरोध जता रहे हैं। वुहान (Wuhan) से इसका एक वीडियो भी सामने आया था जिसमें लोग लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन करते नजर आ रहे हैं।

चीन में सरकार के नियम सख्‍त
बता दें कि चीन में कम्‍युनिस्‍ट शासन है। यहां नियम काफी सख्‍त हैं जिसके चलते सड़कों पर निकलकर विरोध जताना या सरकार के खिलाफ कुछ बोलना यहां कोई आम बात नहीं है क्‍योंकि यहां हिंसा भड़काने की स्थिति में सरकार महीनों या सालों तक लोगों को जेल में डाल देती है।  चीन में सरकार ने इस वक्‍त न केवल लॉकडाउन लगा कर रखा है, बल्कि यहां एक जगह से दूसरे जगह जाने की भी मनाही है। कहीं देश के बाहर जाना तो बहुत दूर की बात है।

Related Articles

Back to top button