चीन में फूटा कोरोना बम, नए मामले अबतक के शीर्ष स्तर पर पहुंचे, शंघाई में लगा सख्त लॉकडाउन

बीजिंग
भारत में कोरोना अपने अंतिम चरण में हैं और तमाम राज्य कोरोना प्रतिबंधों को खत्म कर रहे हैं। लेकिन वहीं पड़ोसी देश चीन में कोरोना अपने चरम पर पहुंच गया है और हर रोज कोरोना के रिकॉर्ड नए मामले सामने आ रहे हैं। चीन में कोरोना के एक दिन में सबसे अधिक 16412 नए मामले सामने आए हैं। 2020 के बाद एक दिन में चीन के भीतर कोरोना का यह सर्वाधिक दैनिक आंकड़ा है। चीन के 27 से अधिक प्रांतों में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है, इन शहरों में अधिकतर जगह ओमिक्रॉन वैरिएंट सामने आ रहा है जोकि सबसे तेज फैलता है। लगातार बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से कई शहरों में सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है।
 

शंघाई में कोरोना के सर्वाधिक मामले सामने आ रहे हैं, यहां 26 मिलियन लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया। शहर में 28 मार्च के बाद दो चरण में लॉकडाउन लगा दिया गया है। प्रशासन ने अभी तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि प्रतिबंधों को कब हटाया जाएगा। सोमवार को शंघाई में कोरोना के 8581 नए मामले सामने आए हैं ये सभी लोग एसिम्प्टोमैटिक हैं जबकि 425 लोग सिंप्टोमैटिक हैं। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को कोरोना की स्थिति पर नियंत्रित करने के लिए बुलाया गया है और 2000 मेडिकल कैंप लगाने को कहा गया है। नौसेना और सेना शंघाई को संसाधन मुहैया कराने में मदद कर रही है। शहर में 38 हजार स्वास्थ्यकर्मियों को तैनात किया गया है। कोरोना की शुरुआत के बाद अभी तक चीन द्वारा यह सबसे बड़ा मेडिकल अभियान शुरू किया गया है।
 

शंघाई में प्रतिबंधों की वजह से दैनिक जीवन और व्यापार काफी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। स्वास्थ्य कर्मी और वॉलंटियर 24 घंटे लोगों का कोरोना टेस्ट कर रहे हैं। ये लोग घरों पर दैनिक सामान पहुंचा रहे हैं। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार शंघाई में अधिकतर लोग एसिम्प्टोमैटिक हैं। जिस तरह से शहर में सख्त प्रतिबंध लगाए गए हैं उसकी वजह से स्थानीय लोगों का गुस्सा सामने आ रहा है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार एक मरीज के सैंपल मे ओमिक्रॉन वैरिएंट का नया सबटाईम सामने आया है।

Related Articles

Back to top button