एक्सपर्ट ने तिब्बत पर चीन के जाली दावों का किया पर्दाफाश, कहा- तिब्बत कभी चीन का हिस्सा नहीं था

वाशिंगटन
सिटी यूनिवर्सिटी आफ हागकांग के सेवानिवृत्ति चेयर प्रोफेसर व विशेषज्ञ हान-शियांग लाउ (Hon-Shiang Lau) ने तिब्बत पर चीन के 'जाली' दावों का पर्दाफाश किया है। तिब्बत राइट्स कलेक्टिव (TRC) की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि 1949 से पहले के इतिहास में तिब्बत कभी भी चीन का हिस्सा नहीं था। उन्होंने यह भी साबित किया कि तिब्बत पर संप्रभुता का चीन का प्रमाण न केवल विकृतियों पर आधारित है बल्कि 1949 से पहले के चीनी अभिलेखों के पूर्ण रूप से निर्माण और जालसाजी पर आधारित है।

'तिब्बत कभी चीन का हिस्सा नहीं था'
'तिब्बत: एक अनसुलझे संघर्ष को सुलझाने के लिए बाधाएं' पर सुनवाई के लिए चीन पर कांग्रेस-कार्यकारी आयोग के लिए एक लिखित गवाही में शियांग लाउ ने देखा कि चीन के 1949 के पूर्व के आधिकारिक ऐतिहासिक रिकार्ड स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि पीपुल्स रिपब्लिक आफ चाइना (PRC) के 1950 में तिब्बत पर आक्रमण करने से पहले तिब्बत कभी चीन का हिस्सा नहीं था।

'यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है'
उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है, क्योंकि चीन राष्ट्र संघ और संयुक्त राष्ट्र के प्रासंगिक अनुबंधों का एक हस्ताक्षरकर्ता है, जिसका अर्थ है कि 1919 से चीन ने वादा किया है कि वह सैन्य विजय के माध्यम से क्षेत्रों को हासिल नहीं करेगा। हान-शियांग ने कहा कि PRC को अपनी 1950 की तिब्बत विजय को एक ऐसे क्षेत्र के 'एकीकरण' के रूप में कवर करने की आवश्यकता है जो 'प्राचीन काल से चीन का हिस्सा रहा है।'

सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य ने विदेशी देश को सैन्य रूप से जीता
हान शियांग ने आगे कहा कि 'दुर्भाग्य से, आज कई सरकारें इस हास्यास्पद झूठ को गलत तरीके से मानती हैं, और यही कारण है कि कई पश्चिमी लोकतंत्र तिब्बत की संप्रभुता को बनाए रखने के लिए पर्याप्त समर्थन प्रदान करने में विफल रहते हैं।' इसका मतलब यह है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक मौजूदा स्थायी सदस्य ने 1950 में एक विदेशी देश को सैन्य रूप से जीत लिया और आज भी इसे अपने अधीन कर रहा है। यह अपराध अंतरराष्ट्रीय समुदाय के हस्तक्षेप को बाध्य करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button