इमरान खान ने कहा- चोरों के साथ असेंबली में नहीं बैठेंगे,चुनाव का बहिष्कार

इस्लामाबाद
 पाकिस्तान में आज नए प्रधानमंत्री का चुनाव हुआ। पीएमएलएन नेता और पाकिस्तान के तीन बार के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के छोटे भाई शहबाज शरीफ (Shehbaz Sharif) नए पीएम चुने गए हैं। शनिवार की देर रात विपक्षी दलों ने अविश्वास प्रस्ताव द्वारा इमरान खान (Imran khan) को प्रधानमंत्री की कुर्सी से बेदखल कर दिया था। पीटीआई की ओर से उम्मीदवार शाह महमूद कुरैशी रेस से हट गए थे। इमरान खान ने प्रधानमंत्री चुनाव का बहिष्कार किया। उन्होंने कहा है कि चोरों (विपक्ष के सदस्य) के साथ नेशनल असेंबली में नहीं बैठेंगे।

विदेशी साजिश की बात सच हुई तो दे दूंगा इस्तीफा
प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद शहबाज शरीफ ने नेशनल असेंबली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पूर्व पीएम इमरान खान के उस आरोप का जवाब दिया, जिसमें इमरान खान ने कहा है कि उन्हें सत्ता से हटाने के लिए अमेरिका में साजिश रची गई। उन्होंने पाकिस्तानी राजदूत द्वारा लिखे गए पत्र के हवाले से यह आरोप लगाया है।

शहबाज शरीफ ने कहा कि एक सप्ताह से चल रहे ड्रामे का अंत हुआ है। खत के नाम पर पूरे देश से झूठ बोला जा रहा था। इमरान खान ने जनता से झूठ बोला। देश को यह जानने का हक है कि सच्चाई क्या है। मैं यह घोषणा करता हूं कि नेशनल असेंबली की सुरक्षा कमेटी को ऑन कैमरा ब्रिफिंग दी जाएगी। इसमें फौज के आला अधिकारी, आईएसआई के चीफ और खत लिखने वाले राजदूत रहेंगे। अगर इस संबंध में रत्ती भर भी यह बात आई कि हम किसी विदेशी साजिश के शिकार हुए या किसी दूसरे देश से मदद ली तो मैं एक सेकेंड में इस्तीफा देकर घर चला जाऊंगा। यह बहस आज खत्म हो जानी चाहिए।

इमरान खान की पार्टी के सदस्यों ने नेशनल असेंबली से वॉक आउट किया
इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के सांसदों ने नेशनल असेंबली से वॉक आउट किया। नए प्रधानमंत्री के चुनाव के लिए सत्र दोपहर 2 बजे (स्थानीय समयानुसार) शुरू होने वाला था, लेकिन इसमें थोड़ी देरी हुई। प्रधानमंत्री पद के लिए पीटीआई उम्मीदवार और पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री पद के लिए पार्टी के उम्मीदवार हैं, लेकिन उन्होंने चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है।

बिलावल भुट्टो जरदारी बन सकते हैं विदेश मंत्री
पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार नई सरकार में बिलावल भुट्टो जरदारी को विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी दी जा सकती है। वहीं, नवीद कमर शाह को नेशनल असेंबली का अध्यक्ष बनाया जा सकता है। वहीं, राणा सनाउल्लाह को आंतरिक मामलों का मंत्री, शाजिया मुरी को सूचना मंत्री, ख्वाजा आसिफ को रक्षा मंत्री, फैसल सब्जवारी को बंदरगाह और जहाजरानी मंत्री और आजम तदर को कानून मंत्री बनाया जा सकता है। मरियम औरंगजेब को प्रधानमंत्री के प्रवक्ता की जिम्मेदारी मिल सकती है।

Related Articles

Back to top button