भारतीय-अमेरिकी पर सार्वजनिक कंपनियों के बारे में झूठी अफवाहें फैलाने का आरोप

Indian-American accused: उज्जवल प्रदेश, न्यूयॉर्क. अमेरिका में सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC) ने भारतीय-अमेरिकी मिलन विनोद पटेल पर सार्वजनिक कंपनियों के बारे में 100 से अधिक झूठी अफवाहें फैलाने का आरोप लगाया है, ताकि वे अवैध व्यापार लाभ में 1 मिलियन डॉलर से अधिक कमा सकें।

एसईसी ने अपनी शिकायत में कहा कि पटेल को पता था कि जो अफवाहें उसे मिलीं वो झूठी हैं जिसमें मुख्य रूप से कॉरपोरेट विलय या अधिग्रहण जैसी झूठी जानकारी शामिल थी। फिर उन्होंन वित्तीय समाचार सेवाओं, चैट रूम और संदेश बोडरें पर अपने संपर्कों में अफवाहें फैलाईं।

एसईसी ने ट्वीट करते हुए लिखा, आज हमने मिलन विनोद पटेल पर सार्वजनिक कंपनियों के बारे में 100 से अधिक झूठी अफवाहें फैलाने और व्यापार करने के लिए बहु-मिलियन डॉलर की योजना में उनकी केंद्रीय भूमिका के लिए आरोप लगाया।

मिलन विनोद पटेल ने स्टॉक ट्रेडिंग वेबकास्ट के होस्ट मार्क मेलनिक को भी अफवाहें फैलाईं, जिन्होंने उन्हें अपने वेबकास्ट ग्राहकों के साथ साझा किया।

दिसंबर 2017 और जनवरी 2020 के बीच 100 से अधिक अफवाहों के प्रसार के कारण संबंधित कंपनियों की सिक्योरिटीज की कीमतों में अस्थायी रूप से वृद्धि हुई। इसने पटेल को ऐसी सिक्योरिटीज में अपनी होल्डिंग बेचने और अवैध व्यापार लाभ में 1 मिलियन डॉलर से अधिक की कमाई करने की अनुमति दी।

जॉर्जिया के उत्तरी जिले के अमेरिकी जिला न्यायालय ने पटेल पर 1933 के सिक्योरिटीज अधिनियम की धारा 17 (ए) और 1934 के सिक्योरिटीज विनिमय अधिनियम की धारा 10 (बी) और उसके तहत नियम 10बी-5 का उल्लंघन करने का आरोप लगाया।

एसईसी ने पहले बार्टन रॉस, मार्क मेलनिक, एंथोनी सालेंड्रा और चार्ल्स पर्रिनो को इस योजना में उनकी भूमिकाओं के लिए आरोपित किया था।

Related Articles

Back to top button