international News : चीन की बड़ी टेंशन,US से खतरनाक पनडुब्बियां खरीद रहा ऑस्ट्रेलिया

international News :अमेरिका 2027 तक पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में कुछ पनडुब्बियों को तैनात करेगा। 2030 की शुरुआत में, ऑस्ट्रेलिया 3 वर्जीनिया श्रेणी की पनडुब्बियां खरीदेगा और उसके पास दो और खरीदने का विकल्प होगा।

international News : उज्जवल प्रदेश,वॉशिंगटन.  दुनियाभर के देशों के साथ चीन के रिश्ते बेहतर नहीं हैं। पाकिस्तान, रूस जैसे चंद देशों को छोड़ दें तो ड्रैगन तकरीबन सभी देशों के साथ किसी न किसी विवाद में पड़ा हुआ है। साउथ चाइना सी में भी चीन द्वारा किए जा रहे बिल्डअप्स से आसपास के देशों समेत पश्चिमी देश भी सतर्क हैं। अब ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के बीच होने वाली एक डील से चीन की टेंशन और बढ़ गई है।

दरअसल, वॉशिंगटन, कैनबरा और लंदन के बीच एक ऐतिहासिक रक्षा समझौते के हिस्से के रूप में ऑस्ट्रेलिया को 2030 में पांच अमेरिकी वर्जीनिया क्लास की परमाणु संचालित पनडुब्बियों को खरीदने की उम्मीद है। यह जानकारी चार अमेरिकी अधिकारियों ने दी। यह डील चीन को एक नई चुनौती पेश करेगी।

अधिकारियों ने बताया कि इस समझौते को AUKUS संधि के रूप में जाना जाता है। इसके तहत आने वाले सालों में अमेरिकी पनडुब्बी ऑस्ट्रेलियाई बंदरगाहों पर जाएगी। वहीं, साल 2030 के आखिर तक ब्रिटिश डिजाइन और अमेरिकी तकनीक के साथ बनाई जा रही पनडुब्बियों की एक नई श्रेणी के साथ यह समझौता समाप्त होगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सोमवार को सैन डिएगो में ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के नेताओं की मेजबानी करेंगे, ताकि ऑस्ट्रेलिया को परमाणु-संचालित पनडुब्बियों और अन्य उच्च-तकनीकी हथियारों के प्रावधान के लिए आगे का रास्ता तैयार किया जा सके।

पश्चिमी देशों के प्रयासों की चीन कर चुका है निंदा

वहीं, चीन ने पश्चिमी देशों के प्रयासों की निंदा की है, जो चीन के सैन्य निर्माण, ताइवान पर दबाव और विवादित साउथ चाइना सी में बढ़ती ताकतवर तैनाती का मुकाबला करने की मांग कर रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर दो अधिकारियों ने बताया कि वार्षिक बंदरगाह यात्राओं के बाद, अमेरिका 2027 तक पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में कुछ पनडुब्बियों को तैनात करेगा। 2030 की शुरुआत में, ऑस्ट्रेलिया 3 वर्जीनिया श्रेणी की पनडुब्बियां खरीदेगा और उसके पास दो और खरीदने का विकल्प होगा। AUKUS के ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी रक्षा परियोजना होने की उम्मीद है और तीनों देशों में नौकरियों की संभावना प्रदान करता है।

ऑस्ट्रेलिया के पास छह पनडुब्बियां मौजूद

ऑस्ट्रेलिया के पास छह पारंपरिक रूप से संचालित कॉलिन्स-श्रेणी की पनडुब्बियों का मौजूदा बेड़ा है, जिनकी सेवा जीवन 2036 तक बढ़ा दी जाएगी। परमाणु पनडुब्बियां पारंपरिक लोगों की तुलना में अधिक समय तक पानी के भीतर रह सकती हैं और उनका पता लगाना कठिन होता है। हालांकि, अधिकारियों ने पनडुब्बियों के नए वर्ग के बारे में विस्तार से नहीं बताया, लेकिन माना जा रहा है कि यह पहले की पनडुब्बियों के मुकाबले कहीं अधिक ताकतवर होने वाली हैं।

जानिए क्या है AUKUS डील

बता दें कि साल 2021 में घोषित प्रारंभिक AUKUS सौदे के तहत, अमेरिका और ब्रिटेन भारत-प्रशांत क्षेत्र में चीन द्वारा उत्पन्न बढ़ते खतरे का मुकाबला करने के संयुक्त प्रयासों के हिस्से के रूप में ऑस्ट्रेलिया को परमाणु-संचालित पनडुब्बियों को तैनात करने की तकनीक और क्षमता प्रदान करने पर सहमत हुए हैं। अगले पांच सालों में ऑस्ट्रेलियाई कर्मचारी निरीक्षण और प्रशिक्षण के लिए अमेरिकी पनडुब्बी शिपयार्ड में आएंगे। सूत्र ने बताया कि इस प्रशिक्षण से सीधे तौर पर अमेरिकी पनडुब्बी उत्पादन को लाभ होगा क्योंकि वर्तमान में शिपयार्ड श्रमिकों की कमी है।

Related Articles

Back to top button