चीन को शांगरी ला डायलॉग के जरिए सख्त संदेश देंगे जापान के पीएम फुमियो किशिदा?

नई दिल्ली
शांगरी ला डायलॉग पर कई देशों की नजर है क्योंकि जापान के पीएम फुमियो किशिदा 10 जून को संबोधित करने वाले हैं। फुमियो किशिदा के भाषण पर इसलिए विशेष फोकस रहने वाला है क्योंकि यह देखना दिलचस्प होगा कि वह चीन, ताइवान, सेनकाकू द्वीप समूह और यूक्रेन को लेकर क्या कहते हैं।

चीनी आक्रामकता का जवाब देंगे जापान के पीएम?
जापान के पूर्व पीएम शिंजो अबे ने यह साफ कर दिया है कि ताइवान पर चीनी आक्रमण जापान के लिए मिलिट्री इमरजेंसी होगा। ऐसे में दुनिया को फुमियो से चीन को संदेश भेजने की उम्मीद है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि जापान ताइवान और सेनकाकू द्वीप समूह पर किसी भी चीनी आक्रामकता का जवाब देगा।

अमेरिका की जगह लेता जा रहा है चीन?
शांगरी ला डायलॉग में अमेरिकी रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन भी अपनी बात रखेंगे। उनका संबोधन ऐसे वक्त में होगा जब अमेरिका और चीन के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। इसके साथ ही चीन अमेरिकी प्रभुत्व वाले क्षेत्र में पैर पसार रहा है। इसी कड़ी में चीनी विदेश मंत्री कजाकिस्तान में तीन दिन थे। चीन प्रशांत क्षेत्र से लेकर मध्य एशिया तक अपनी पकड़ बनाने की हर संभव कोशिशों में जुटा हुआ है।

आसियान देश किसके साथ?
आसियान देश ऑस्टिन की बातों को बहुत ध्यान से सुन रहे होंगे क्योंकि ओबामा शासन के काल से ही अमेरिका पूर्वी एशिया धुरी की बात करता रहा है। आसियान देश इस पर अपना दांव लगाएंगे कि क्या अमेरिका एशिया में लगातार बढ़ते चीन का मुकाबला करने के लिए कोई ऊर्जा और सैन्य क्षमता है। हालांकि अमेरिका एशिया में अपने वार्ताकारों से कह रहा है कि वह चीन की चुनौती को लेने के लिए प्रतिबद्ध है। सिंगापुर जैसे देश दो दोस्तों के बीच फंसने की तुलना में बाड़ पर बैठना पसंद करते हैं।

Related Articles

Back to top button