राष्ट्रपति की पुतिन की कार को बम से उड़ाने की कोशिश, सिक्योरिटी सर्विसेस के कई गार्ड्स सस्पेंड

मॉस्को
       
  
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन पर एक जानलेवा हमला हुआ है, लेकिन वो पूरी तरह सुरक्षित हैं. जब वो अपने घर के पास थे तभी उनके काफिले का रास्ता रोक उन पर हमला किया गया. हालांकि इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वहीं राष्ट्रपति की सुरक्षा में लगे कई कर्मचारी सस्पेंड हो गए हैं.

ये पहली बार नहीं है, जब पुतिन पर इस तरह का जानलेवा हमला हुआ हो. साल 2017 में उन्होंने खुद ये जानकारी दी थी कि किस तरह 5 जानलेवा हमलों में उनकी जान बाल-बाल बची है.

टकराया कार का बांया पहिया

यूरोवीकली की खबर के मुताबिक राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन की कार का अगला बांया पहिया किसी चीज से बेहद जोर से टकराया. वह अपने घर से कुछ किलोमीटर दूर ही थे, तभी उनकी सुरक्षा में लगी एक कार का रास्ता एंबुलेंस ने रोक लिया. जबकि अचानक से आई बाधा की वजह से दूसरी सुरक्षा कार भटक गई.

हालांकि रूस मे मीडिया पर कड़ी पहरेदारी है, ऐसे में पुतिन पर ये हमला कब हुआ, इसकी साफ-साफ जानकारी नहीं है. लेकिन यूरोवीकली का कहना है कि पुतिन पर हमले की संभावनाएं बढ़ रही हैं, इसलिए वह डिकॉय मोटरकेड में सफर करते हैं.

सुरक्षा में लगे जवान गिरफ्तार

अंदर के सूत्रों ने जानकारी राष्ट्रपति की सुरक्षा में लगे कई जवानों और अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं कुछ को गिरफ्तार भी किया गया है, क्योंकि राष्ट्रपति के मूवमेंट की जानकारी काफी कम लोगों को होती है. हालांकि इन दावों की पुष्टि किया जाना बाकी है.

दो महीने पहले भी हुई थी पुतिन को मारने की कोशिश
यूक्रेन के एक अधिकारी ने दावा किया था कि दो महीने पहले यानी मई में पुतिन की हत्या की कोशिश हुई थी। इसमें वो बच गए थे। यूक्रेन के इंटेलिजेंस डायरेक्टोरेट के चीफ काइरिलो बुडानोव ने कहा था- पुतिन को जान से मारने की नाकाम कोशिश 2 महीने पहले की गई थी।

आत्मघाती हमला होने की आशंका
एक रूसी टेलीग्राम चैनल के मुताबिक- ये हमला आत्मघाती हो सकता है। क्योंकि जिस एंबुलेंस ने पुतिन के काफिले की पहली कार को रोका था उसका ड्राइवर मृत पाया गया। उसकी डेडबॉडी मिली। वहीं, पुतिन को एस्कॉर्ट कर रही इस पहली कार में मौजूद 3 लोग लापता हो गए।

SCO में मिलेंगे पीएम मोदी से

इस बीच राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन समरकंद की यात्रा पर जा रहे हैं. यहां वो शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की बैठक में हिस्सा लेंगे. उनकी पीएम नरेन्द्र मोदी और अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग से मुलाकात भी तय है.

Related Articles

Back to top button