पुतिन की सेना यूक्रेन पर अभी भी ईरानी ड्रोनों से हमले कर रही, ‘डर्टी बम’ से घबराया रूस!

कीव
यूक्रेन पर हमले के लिए रूसी सेना अभी भी ईरानी ड्रोनों का इस्तेमाल कर रही है। ये दावा ब्रिटेन ने अपनी हालिया रिपोर्ट में किया है। यूक्रेन युद्ध को लेकर अपने ताजा आंकड़े जारी करते हुए यूनाइटेड किंगडम ने सोमवार को कहा कि क्रेमलिन ईरानी निर्मित शाहेद-136 मानव रहित हवाई वाहनों (यूएवी) का इस्तेमाल यूक्रेनी क्षेत्र के अंदर टारगेट पर हमला करने के लिए कर रहा है।

यूके के रक्षा मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा, "हालांकि, शाहेद-136 यूएवी को हराने के यूक्रेनी प्रयास तेजी से सफल हो रहे हैं। राष्ट्रपति जेलेंस्की सहित आधिकारिक सूत्रों का दावा है कि 85% तक हमलों को रोका जा रहा है।" मंत्रालय ने कहा कि शाहेद-136 ड्रोन धीमे हैं, शोर करते हैं और कम ऊंचाई पर उड़ते हैं। इस प्रकार 'अकेले विमान को पारंपरिक हवाई सुरक्षा को भेदना आसान हो जाता है'।

यूक्रेन की वायु रक्षा प्रणालियों को 'खूब प्रभावी' बताते हुए, ब्रिटिश रक्षा मुख्यालय ने आगे कहा कि मास्को इन ड्रोनों का इस्तेमास रूसी निर्मित लंबी दूरी के सटीक हथियारों के विकल्प के रूप में कर रहा है। क्योंकि रूसी हथियार अब खत्म हो रहे हैं। शाहेद-136 यूएवी को कभी-कभी 'कामिकेज' ड्रोन के रूप में भी जाना जाता है। चल रहे युद्ध में, क्रेमलिन द्वारा पहली बार 17 अक्टूबर को कीव के बीच एक हमले में इस्तेमाल किया गया था।

यूक्रेन युद्ध में ‘डर्टी बम’ का जिक्र हुआ है। रूस के हालिया बयान इस ओर इशारा कर रहे हैं कि पुतिन ‘डर्टी बम’ से घबराए हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल रूस के मुताबिक ‘डर्टी बम’ कुछ और नहीं बल्कि परमाणु हथियार (रेडियोधर्मी उपकरण) है। रूस के रक्षा प्रमुख ने रविवार को दावा किया कि यूक्रेन एक रेडियोधर्मी उपकरण का इस्तेमाल कर उसे उकसाने की तैयारी कर रहा है। उनके इस दावे से मास्को और यूक्रेन के बीच बढ़ता तनाव प्रदर्शित हो रहा है। यूक्रेन के दक्षिणी हिस्से में आगे बढ़ रहे यूक्रेनी सैनिकों को रोकने में रूस संघर्ष कर रहा है और हर जगह यूक्रेनी सेना को रोकने के लिए रक्षात्मक मोर्चा बना रहा है।

रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने यूक्रेन द्वारा उकसाये जाने का आरोप ब्रिटेन, फ्रांस और तुर्की के अपने समकक्षों को किये गये फॉन कॉल में लगाया है। उन्होंने तीन दिनों में किये गये अपने दूसरे कॉल में अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से भी बातचीत की, लेकिन इस बारे में रूस की एक विज्ञप्ति में यह नहीं बताया गया कि ‘डर्टी बम’ का जिक्र उनकी बातचीत में किया गया, या नहीं।

‘डर्टी बम’ एक ऐसा उपकरण है जो रेडियोधर्मी पदार्थों को बिखेरने में विस्फोटकों का इस्तेमाल करता है। यह बम परमाणु विस्फोट जितना विनाशकारी प्रभाव वाला नहीं होता, लेकिन यह रेडियोधर्मी संदूषण से एक बड़े क्षेत्र को प्रदूषित कर सकता है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि शोइगु ने एक ‘डर्टी बम’ सहित संभावित यूक्रेनी उकसावे के बारे में चिता जताई है।

ब्रिटेन ने इन दावों को सिरे से खारिज कर दिया है। ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि ब्रिटेन के रक्षा मंत्री बेन वालेस के साथ शोइगु ने अपनी बातचीत में आरोप लगाया कि यूक्रेन पश्चिमी देशों के इशारे पर ऐसा करने की योजना बना रहा है। मंत्रालय ने कहा, ‘‘रक्षा मंत्री ने यूक्रेन के लिए ब्रिटेन और व्यापक अंतरराष्ट्रीय समर्थन को भी दोहराया तथा तनाव घटाने की इच्छा जाहिर की।’’ यूक्रेन के राष्ट्रपति के सलाहकार मायखैलो पोडोलयाक ने भी शोइगु के दावों को खारिज कर दिया है।

फ्रांसीसी सशस्त्र बलों के मंत्रालय ने कहा कि शोइगु ने अपने समकक्ष सेबेस्टिन लेकोरनु से कहा है कि यूक्रेन में स्थिति तेजी से बदतर हो रही है और अनियंत्रित तनाव की ओर बढ़ रही है। रूसी अधिकारियों ने बार-बार दावा किया है कि यूक्रेन एक ‘डर्टी बम’ का इस्तेमाल कर सकता है और इसके लिए मास्को को जिम्मेदार ठहरा सकता है।

Related Articles

Back to top button