शंघाई: खाने की किल्लत, दवाएं खत्म, खिड़कियों से मदद को चिल्ला रहे लोग

बीजिंग
चीन के शंघाई में कोरोना वायरस का बढ़ता संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसे देखते हुए चीनी प्रशासन ने यहां पर सख्त लॉकडाउन लगाया है। रिपोर्ट के मुताबिक, शंघाई में लोगों के लिए भुखमरी जैसे हालात बन गए हैं। लोगों के पास खाने-पीने का सामान खत्म होता जा रहा है। शहर में एक शख्स कोविड लॉकडाउन नॉर्म्स तोड़ता हुआ पुलिस के पास पहुंच गया। दरअसल, उसे उम्मीद थी कि जेल में कम से कम भोजन तो मिलेगा। शंघाई की आबादी करीब 26 मिलियन (260 लाख) है। पूरी की पूरी आबादी को सख्त लॉकाउन में रखा गया है। चीन का फाइनेंशियल हब कहा जाने वाला यह शहर कोरोना की सबसे घातक मार झेल रहा है। 2019 में चीनी शहर वुहान में कोरोना का पहला केस मिला था। इसके बाद से लेकर अब तक की यह कोरोना की सबसे बुरी मार है।

खाने-पीने की चीजों के साथ दवाएं भी खत्म हो रहीं
लंबे समय से घरों में बंद रहने की वजह से लोग मानसिक रूप से काफी परेशान हो गए हैं। उन्हें रोजमर्रा की चीजों के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि लोगों के पास जरूरी चीजों की कमी लगातार बढ़ती जा रही है। यहां तक कि दवाएं की भी कमी होती जा रही हैं। लोग महंगाई से भी काफी परेशान हैं। शहर में खाने-पीने की चीजें काफी ज्यादा बढ़ गई हैं।

घरों की खिड़की से मदद के लिए चीख रहे लोग
सोशल मीडिया पर इस तरह के कई वीडियोज सामने आए हैं, जिनमें लोगों को मदद की गुहार लगाते देखा जा रहा है। लोग अपने घरों की खिड़की से मदद के लिए चीख रहे हैं। हालात लगातार बिगड़ता जा रहा है। कई लोग अब अपने घरों से निकलकर विरोध-प्रदर्शन करने लगे हैं। प्रदर्शनकारी कह रहे हैं कि हम लोग भूख से मर रहे हैं। हमें मदद की जरूरत है। सरकार हमारी आवाज नहीं सुन रही है।

Related Articles

Back to top button