शहबाज सरकार पर निशाना साधते हुए इमरान ने कहा करूंगा इतिहास की सबसे बड़ी रैली

इस्लामाबाद
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस्लामाबाद की ओर लॉन्ग मार्च को रोकने के सरकार के फैसले के बावजूद पार्टी के 'आजादी मार्च' को आगे बढ़ाने का प्लान तैयार किया है। पेशावर में एक प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करते हुए इमरान ने कहा कि कल वह पाकिस्तान के इतिहास की सबसे बड़ी रैली का नेतृत्व करेंगे। इमरान खान की पार्टी के 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को, जल्दी चुनाव कराने की मांग को लेकर इस्लामाबाद तक एक नियोजित प्रदर्शन करने के लिए गिरफ्तार किया गया है।

दंगों में एक पुलिसकर्मी की भी जान चली गई जिसके बाद पाकिस्तान सरकार ने 25 मई के लिए नियोजित पीटीआई के इस्लामाबाद लॉन्ग मार्च पर रोक लगा दी है। शहबाज सरकार पर निशाना साधते हुए इमरान ने कहा कि शरीफ परिवार वही रणनीति अपना रहा है जो सैन्य तानाशाह 1985 में अपनाते थे। सत्ता छोड़ते ही उन्हें लोकतंत्र की याद आ जाती है। पीटीआई कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई पर इमरान ने कहा कि वे महिलाओं की प्राइवेसी की परवाह किए बिना लोगों के घरों में घुस गए।

सरकार ने इमरान खान की रैली पर लगाई रोक
खान ने पूछा कि क्या पीटीआई सरकार ने बिलावल भुट्टो जरदारी और मौलाना फजलुर रहमान की इस्लामाबाद की ओर मार्च करने पर कोई गिरफ्तारी की? पीटीआई के 100 से अधिक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान सरकार ने मंगलवार को इमरान खान की 25 मई की प्रस्तावित विशाल रैली पर रोक लगा दी है। सरकार का कहना है कि खान को उनके 'गुमराह करने वाले एजेंडे को बढ़ावा देने' से रोकने के लिए रैली पर प्रतिबंध लगाया गया है।

कैबिनेट में 60 फीसदी अपराधी शामिल
इमरान खान ने कहा, 'क्या हम देश को कायदे आजम का पाकिस्तान बनाना चाहते हैं या चोर और लुटेरों का?' उन्होंने कहा कि संघीय कैबिनेट में 60 फीसदी अपराधी शामिल हैं जो जमानत पाने के बाद आजाद घूम रहे हैं जबकि उनके खिलाफ अभी भी 24 अरब रुपए के भ्रष्टाचार के मामले हैं। इमरान खान ने कहा, 'क्राइम मिनिस्टर और उनके बेटे को सजा मिलनी चाहिए लेकिन अब वे देश के लिए फैसले ले रहे हैं।' उन्होंने दावा किया कि पीटीआई ने अपने 26 साल के राजनीतिक इतिहास में कभी कोई कानून नहीं तोड़ा।

Related Articles

Back to top button