ईमेल आईडी को हैक होने से ऐसे बचाएं…

यदि ईमेल आईडी हैक होती है तो हैकर्स हमें भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि पहले से सजग रहें। यहां हम ऐसे उपाए सुझा रहे हैं जिनके माध्यम से आप अपनी ईमेल आईडी को हैक होने से बचा सकते हैं।

माह दो माह बदलें पासवर्ड
जब आप अपने फोन का पासवर्ड बना रहे होते हैं तो सिक्योरिटी प्रश्न और उत्तर को ज्यादा मजबूत रखने की कोशिश करें। इसके साथ ही यह भी कोशिश करें कि महीने दो महीने में पासवर्ड को बदल ही दें। जहां तक हो सके कोशिश यही करें कि हर बार नया पासवर्ड बनाएं।

डुअल सिक्योरिटी
यदि आप अपने अकाउंट को बहुत ज्यादा सिक्योर रखना चाहते हैं तो डुअल सिक्योरिटी का सहारा ले सकते हैं। जब आप ईमेल खोलने के लिए आईडी और पासवर्ड डालेंगे तो आपको एक ऐडिशनल कोड दिया जाएगा। यह कोड आपको मोबाइल पर प्राप्त होगा। इससे आपका अकाउंट ज्यादा सुरक्षित होगा।

अनजान ईमेल न खोलें
आपके मेल बॉक्स में कोई ऐसा ईमेल आता है जिसे आप नहीं जानते हों या उसका सब्जेक्ट कुछ अलग है तो उस ईमेल को न खोलें। वह वायरस हो सकता है जो आपके ईमेल अकाउंट और डाटा हैक कर सकता है। यदि आप फोन से ऑन लाइन बैंकिंग का उपयोग करते हैं तो वायरस बैंक अकाउंट तक को हैक कर सकता है। वहीं वेब ब्राउजिंक के दौरान यदि कोई वेबसाइट लॉटरी या गिफ्ट की लालच दे रहा हो तो उस पर बिल्कुल भी क्लिक न करें। वे अपको कुछ डाउनलोड के लिए प्रेरित करते हैं। ये हैकर्स होते हैं जो आपकी मेल आईडी को हैक कर सकते हैं।

प्राइवेट ब्राउजिंग
आप अपने ईमेल अकाउंट को किसी अनजान पीसी पर न खोलें। जैसे सायबर कैफे, लाइब्रेरी और अपने दोस्त का पीसी व मोबाइल इत्यादि। इसमें सुरक्षा सम्बंधी नियमों को भली—भांति पालन नहीं किया जाता है और ईमेल आईडी हैक होने का खतरा होता है। वहीं यदि आपको किसी कारणवश अगर दूसरे का पीसी यूज करना पड़े तो आप प्राइवेट ब्राउजिंग का सहारा ले सकते हैं। इसमें आपके मेल आईडी और निजी सूचनाओं को हैक होने का खतरा न के बराबर होता है।अपने फोन और कंप्यूटर में नियमित रूप से एंटी वायरस एप्लिकेशन का उपयोग करें और डाटा स्कैन करें। आज कल हर जगह वाईफाई सेवा उपलब्ध हो जाती है। वहीं कई वाईफाई ओपन होते हैं। आपकी कोशिश यही हो कि ओपन वाईफाई के उपयोग से बचें। इसमें भारी मात्रा में आपके कंप्यूटर और मोबाइल में वायरस भेजा जाता है जो हैक का प्रमुख कारण होते हैं।

आसान पासवर्ड न रखें
आप अपने ईमेल आईडी में अक्सर अपना जन्मदिन या मोबाइल नंबर का उपयोग करते हैं। हैक करने के लिए इससे आसान कुछ हो ही नहीं सकता। वहीं कई लोग तो लगातार नंबर का उपयोग करते हैं। इस तरह के पासवर्ड को तोडऩा बहुत आसान होता है। पासवर्ड बनाते वक्त हमेशा ध्यान रहे कि बिल्कुल अगल किस्म का पासवर्ड हो और जितना लंबा हो उतना बेहतर है। वहीं लगातार नंबर भी नहीं होना चाहिए। अलग—अगल अकाउंट के लिए एक ही पासवर्ड का उपयोग भी खतरनाक है। हर अकाउंट के लिए अगल—अलग पासवर्ड का उपयोग करें।

ब्लूटूथ ओपन न रखें
आपका ईमेल आईडी और पासवर्ड हैक होने का कारण सिर्फ कंप्यूटर ही नहीं आपका मोबाइल भी हो सकता है। इसलिए मोबाइल में भी सुरक्षा संबंधी नियमों का पालन बेहद जरूरी है। सबसे पहले हमेशा अपने फोन का ब्लूटूथ ऑन न रखें। इसे तभी ऑन करें जब जरूरत हो और इसके बाद तुरंत ऑफ कर दें। ब्लूटूथ को हमेशा ऑन रखना वायरस के खतरे को न्योता देना है।

उपयोग से पहले और बाद
यदि आप अपना फोन सुधारने के लिए दे रहे हैं या फिर किसी को बेच दिया है तो सबसे पहले फैक्ट्री डाटा रीसेट करें। हो सके तो हार्डबूट करें ज्यादा बेहतर होगा। फैक्ट्री डाटा रिसेट फोन के बैकअप एंव सेटिंग में मिलेगा जबकि हार्डबूट वॉल्यूम डाउन और पावर बटन के माध्यम से किया जा सकता है। वहीं यदि नया फोन लिया है तो भी मेल आईडी सेट करने से पहले जांच लें कि उसमें कुछ पहले से न पड़ा हो। सुरक्षा के लिहाज से यह बेहद जरूरी है।

साइड लोडिंग न करें
अक्सर हम अपने फोन में किसी दूसरे के फोन या कंप्यूटर से एप्लिकेशन ट्रांसफर कर लेते हैं। जिसे साइड लोडिंग कहा जाता है। इसमें भी वायरस आने का खतरा होता है। इन्हीं वायरस के माध्यम से हैकर्स फोन से डाटा चोरी करते हैं और हैक करते हैं। इनके अलावा भी कुछ सावधानियां हैं जिनका पालन करना जरूरी है। जैसे अपने फोन में किसी दूसरे के कार्ड का उपयोग न करें। वहीं पायरेटेड गाने, वीडियो और फोटोग्राफ डाउनलोड करने से भी बचें। वाईफाई हॉटस्पॉट को खुला न छोडें, अपने मेल या एसएमएस में भी अपने आईडी या पासवर्ड न डालें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button