बॉडी कॉन्टूरिंग पर लाखों खर्च कर रहे लोग

सुचेता (बदला हुआ नाम) 47 वर्ष की हैं और वह करीब 17 सालों तक सख्त डायट प्लान और एक्सर्साइज पर रहीं ताकि उन्हें अच्छी बॉडी शेप मिल सके। इसके बावजूद उनके हिप्स (कमर) और थाई (जांघों) का फैट कम नहीं हुआ। सुचेता ने बताया, 'छोटे और खूबसूरत कपड़े पहनना मेरे लिए सपना ही रह गया।' इसलिए एक दिन उन्होंने इस थकाऊ रूटीन को खत्म करने का फैसला किया।

बॉडी-कॉन्टूरिंग पर खर्च कर रहे लाखों
दिल्ली की प्रफेशनल सुचेता ने बताया, 'मैंने मोटापा कम करने के लिए बॉडी कॉन्टूरिंग कराने का फैसला किया और इसके लिए बचत करने लगी।’कई लोग बॉडी को शेप में लाने के लिए अब जिम में पसीना बहाना पसंद नहीं करते। वे इसके लिए अडवांस टेक्नॉलजी का सहारा ले रहे हैं। इन लोगों को बॉडी-कॉन्टूरिंग पर पैसे खर्च करने में कोई हर्ज नहीं दिखता।

फैट सेल्स हटाकर बॉडी को शेप में लाने की प्रक्रिया
बॉडी कॉन्टूरिंग एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें एक्सेस स्किन और फैट सेल्स को हटाकर बॉडी को शेप में लाया जाता है। बॉडी-कॉन्टूरिंग करने वाले क्लिनिक के डॉक्टरों ने बताया कि इसमें टमी टकिंग, मैन ब्रेस्ट रिमूवल और बाजुओं-कमर से मोटापे को हटाया जाता है। वीएलसीसी हेल्थ केयर की मोनिका बहल ने बताया, 'सिर्फ महिलाएं ही बॉडी-कॉन्टूरिंग नहीं करा रही हैं। अगर हमारे पास 100 लोग आते हैं तो उनमें 35 पुरुष और 65 महिलाएं होती हैं।’

लुक और पॉश्चर की खातिर टेक्नॉलजी का सहारा
प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर सपना वी रोशनी का कहना है, 'इन दिनों आपका लुक ज्यादा मायने रखता है। कई बार एक्सर्साइज और डायट फॉलो करने के बावजूद भी शरीर के कुछ हिस्सों से मोटापा नहीं जाता। ऐसे में बॉडी-कॉन्टूरिंग का सहारा लेना पड़ता है। हर कोई लुक की खातिर ऐसा नहीं करता, कई लोग बॉडी पॉश्चर को ठीक करने के लिए इस टेक्नॉलजी को अपनाते हैं।’

45 हजार से लाखों के बीच है लागत
बॉडी-कॉन्टूरिंग की लागत 45 हजार रुपये से लेकर लाखों रुपये तक हो सकती है। महिलाओं में इसका इस्तेमाल पेट कम करने, ब्रेस्ट के ढीलेपन को ठीक करने, बटक और कमर और डबल चिन के रिमूवल के लिए किया जाता है। पुरुष गायनेकोमेस्टिया यानी ब्रेस्ट कम करने के लिए सर्जरी करवाते हैं। डॉक्टर रोशनी ने बताया, 'मैन ब्रेस्ट की समस्या खत्म होने पर आपका आत्मविश्वास बढ़ता है।’

सर्जरी और बिना सर्जरी दोनों प्रक्रियाएं हैं मौजूद
15 वर्ष का अनुभव रखने वाले प्लास्टिक और कॉस्मेटिक सर्जन, डॉक्टर दतिंदरजीत सिंह टुल्ला का कहना है कि बॉडी-कॉन्टूरिंग सर्जरी और बिना सर्जरी के भी हो सकती है। सर्जरी में लाइपोलाइटिक सॉल्यूशन से शरीर के किसी हिस्से में फैट सेल्स को घटाया जाता है। इसके बाद तोंद कम करने के लिए टमी टकिंग सर्जरी की जाती है। इसमें पेट पर लटकती हुई स्किन को हटाया जाता है। बॉडी-कॉन्टूरिंग में थाई लिफ्ट, बटक लिफ्ट, आर्म लिफ्ट सर्जरी भी की जाती हैं। डॉ. टुल्ला ने बताया कि जो लोग सर्जरी नहीं करवाना चाहते, वे लेजर ट्रीटमेंट, अल्ट्रासाउंड बेस्ड टेक्नॉलजी की मदद ले सकते हैं। पिछले कुछ साल में बिना सर्जरी के बॉडी को शेप में लाने का ट्रेंड बढ़ा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button