चुनाव से पहले 31 लाख के नकली नोटों का जखीरा पकड़ाया, 3 करोड़ छापने का था आर्डर

राजगढ़
चुनाव से पहले मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है| यहां नकली नोट के कारोबार का पर्दाफ़ाश हुआ है| पुलिस ने पांच आरोपियों से नई करेंसी के नकली नोटों का जखीरा बरामद किया है| साथ ही मौके से नकली नोट बनाने के पेपर, प्रिंटर, सहित नोट बनाने की सामग्री सहित दो पिस्तौल बरामद की है|  चुनाव के पहले इतनी बड़ी संख्या में नई करेंसी के नकली नोट पकड़ना बड़े सवाल खड़े करता है, क्या यह नोट चुनाव में खपाने के लिए तैयार कराये जा रहे थे|  

आईजी जयदीप प्रसाद ने प्रेसवार्ता में बताया कि सोमवार को मुखबिर की सूचना पर राजगढ़ जिले में होशंगाबाद से एक गिरोह अल्टो 800 कार से भोजपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत जाली नोटों बाजार में चलाने के लिये आये है, जिसकी जानकारी के बाद राजगढ एसपी सिमाला प्रसाद के आदेश पर एक टीम गठित कर भोजपुर के पास डूंगरी जोड़ पर पुलिस टीम ने दबिश दी|  दबिश में तीन आरोपी सुशील विश्वकर्मा, नासिर खान,रामबाबू मीणा के पास से आल्टो 800 कार सहित  नकली नोट 14 लाख 93 हजार बरामद किए जिनमे बड़ी मात्र में 2000 व 500 सौ ने नकली नोट थे। तीन आरोपी से सख्ती से पूछताछ करने पर आरोपियों ने बताया कि दो अन्य साथी की रईस खान व संतोष राणा होशंगाबाद के बाबई थाना क्षेत्र के अंतर्गत अभी भी नोट की छपाई कर रहे है। हम उन्ही से नोट लेकर भोजपुर में चलाने आये थे। घटना के बाद पुलिस टीम तत्काल एमपी निर्देश पर होशंगाबाद रवाना हुई और गिरोह का पर्दाफाश करते हुए उक्त आरोपी को भी अपनी हिरासत में लिया। जहा आरोपी द्वारा बताए पाते पर दबिश दी तो आरोपी नोट छपाई व कटिंग करते मिले इनके पास से पुलिस ने नकली नोट लगभग 16 लाख 19 हजार सहित लेपटॉप,प्रिंटर,स्याही नोट पेपर,नोटों प्रिंट हुई शीट जप्त किए।  

पुलिस ने कुल 31 लाख 12 हजार रुपये के नकली नोट बरामद किये हैं|  गिरफ्तार किये गए पाचो आरोपियों ने पूछताछ में ये भी बताया कि भोपाल के एक व्यक्ति ने 3 करोड़ के नकली नोट बनाने का आर्डर दिया था साथ ही होशंगाबाद का एक व्यक्ति भी वीरेंद्र पटेल बाजार में नकली नोट खपाने का काम कर रहा है। पकड़े गए आरोपीयो के खिलाफ धारा 489ए, बी, सी, डी, 34 भादवि ,25(1बी) आमर्स एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध कर जांच में लिया गया है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button