“हर घर तिरंगा” अभियान में उत्साह और उल्लास के साथ भाग लें पंचायत प्रतिनिधि : मुख्यमंत्री चौहान

भोपाल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों को बधाई देते हुए अपने दायित्व का निर्वहन जन-अपेक्षाओं के अनुरूप करने के लिए उन्हें शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधि अपने क्षेत्र के विकास और लोगों के कल्याण में कोई कसर नहीं छोड़ें, राज्य सरकार पंचायत प्रतिनिधियों के साथ है। मुख्यमंत्री चौहान ने नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों को आजादी के अमृत महोत्सव में उत्साहपूर्वक सम्मिलित होने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। देश ने संघर्ष, त्याग, तपस्या और बलिदान से आजादी पायी है। इस काल को उत्सव के रूप में मनाना प्रत्येक प्रदेशवासी का कर्त्तव्य है। हम सब "हर घर तिरंगा" अभियान से जुड़ कर आनंद और उत्साह से आजादी का पर्व मनाएँ।

मुख्यमंत्री चौहान पंचायती राज संस्थाओं के नवनिर्वाचित प्रतिनिधियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से निवास कार्यालय से संबोधित कर रहे थे। अपर मुख्‍य सचिव सामान्य प्रशासन विनोद कुमार, प्रमुख सचिव संस्कृति शिव शेखर शुक्ला तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। प्रदेश की सभी पंचायतों ने कार्यक्रम में वर्चुअली सहभागिता की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि "हर घर तिरंगा" अभियान देशवासियों में राष्ट्रीय ध्वज के बारे में जागरूकता उत्पन्न कर देश-भक्ति की भावना जागृत करने का अभियान है। पूरे देश में 11 से 17 अगस्त तक स्वतंत्रता सप्ताह मनाया जाएगा। हम सब 13 से 15 अगस्त तक अपने घरों, कार्यालयों और व्यावसायिक स्थलों पर तिरंगा अवश्य फहराएँ। यह भारत माता के प्रति अपने प्रेम, सम्मान और समर्पण का प्रकटीकरण है। यह आवश्यक है कि हम राष्ट्रीय ध्वज स्वयं क्रय कर लगाएँ। प्रदेश में महिलाओं के स्व-सहायता समूह और सहकारी समितियाँ राष्ट्रीय ध्वज निर्माण में लगी हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने भारत सरकार द्वारा दिन के साथ रात में भी राष्ट्रीय ध्वज फहराने की अनुमति प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार माना।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि "हर घर तिरंगा" अभियान में सभी की भागीदारी सुनिश्चित करने सम्पूर्ण प्रदेश में व्यापक स्तर पर वातावरण निर्माण की गतिविधियाँ जारी हैं। गाँव और नगरों में तिरंगा रैलियों, प्रभात फेरी और भजन मंडलियों द्वारा जन-जन को "हर घर तिरंगा" अभियान में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाए। समाज के प्रतिष्ठित व्यक्तियों, धर्मगुरूओं, समाजसेवियों, समाजसेवी संगठनों, विद्यालयों, महाविद्यालयों, एनसीसी, एनएसएस, जन अभियान परिषद के कार्यकर्ताओं तथा खेल एवं अन्य गतिविधियों से संबंधित संगठन देश प्रेम के इस कार्य में समर्पण और सक्रियता से भाग लें।

मुख्यमंत्री चौहान ने मंडला में मानव श्रंखला द्वारा भारत का नक्शा और रायसेन में 75 वर्ष के अंक के आकार की मानव श्रंखला बनाकर ड्रोन फोटोग्राफी कराने के नवाचार की सराहना की। मुख्यमंत्री ने बुरहानपुर में सभी धर्मों के धर्मगुरूओं द्वारा एक साथ तिरंगा फहराकर आकर्षक वीडियो तैयार करने की भी प्रशंसा की गई। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि "हर घर तिरंगा" अभियान से वृक्षा-रोपण गतिविधियों को भी जोड़ा जाए। साथ ही महापुरूषों के स्मारकों की साफ-सफाई जैसी गतिविधियों को भी अभियान में सम्मिलित कर उनका स्मरण और उनके प्रति सम्मान प्रकट किया जाए।

मुख्यमंत्री चौहान ने नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों को बताया कि वे स्वयं भोपाल में स्व-सहायता समूह की बहनों से तिरंगा लेने गए थे। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को भी अपने आसपास के स्व-सहायता समूह की बहनों से राष्ट्र ध्वज क्रय करने के लिए प्रेरित किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुझे विश्वास है कि प्रदेशवासी राष्ट्र प्रेम और राष्ट्र-भक्ति के महाआयोजन को सफल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। प्रदेश के हर घर और हर प्रतिष्ठान में 13 से 15 अगस्त तक तिरंगा अवश्य लहराएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों से चर्चा में समरस पंचायतों के गठन को प्रदेश की अभूतपूर्व उपलब्धि बताया। उन्होंने कहा कि प्रेम और सद्भाव से ही विकास की गौरव गाथा लिखी जा सकती हैं। पंचायतें अपने क्षेत्र के प्रत्येक पात्र व्यक्ति को संबंधित योजनाओं से जोड़ना सुनिश्चित करें। आवास, राशन, कौशल उन्नयन और स्व-सहायता समूह सहित रोजगार के लिए संचालित योजनाओं, लाड़ली लक्ष्मी, मातृ वंदना योजना आदि में शत-प्रतिशत सेचुरेशन सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत सरकार और राज्य सरकार की 300 से अधिक योजनाओं के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी पंचायत प्रतिनिधियों पर है। उन्हें आवश्यक प्रशिक्षण उपलब्ध कराया जाएगा। निष्पक्ष हितग्राही चयन और गुणवत्तापूर्ण निर्माण कार्य हम सबकी जिम्मेदारी है। राज्य सरकार, जन-प्रतिनिधि, पंचायत प्रतिनिधि और अधिकारी एक इकाई के रूप में परस्पर समन्वय से इस प्रकार कार्य करें, जिससे मध्यप्रदेश को एक आदर्श के रूप में पूरे देश के सम्मुख प्रस्तुत किया जा सके।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक गाँव अपना गौरव दिवस तय करें। अपने गाँव के विकास और ग्रामवासियों के कल्याण को हम अपना कर्त्तव्य समझें। गाँव में स्वच्छता, शौचालयों के सही उपयोग, कुपोषण से मुक्ति, आँगनवाड़ी और शालाओं के संचालन में जन-भागीदारी, बिजली की बचत, नशामुक्ति, बेटियों के सम्मान के लिए सक्रियता और संवेदनशीलता के साथ सभी लोग कार्य करें। यह अभियान समाज को सही दिशा में ले जाने का अभियान भी है। प्रमुख सचिव संस्कृति शिवशेखर शुक्ला ने जानकारी दी कि प्रदेश में सभी राशन दुकानों, आँगनवाड़ियों, पंचायतों में राष्ट्रीय ध्वज उपलब्ध हैं। प्रदेश की महिला स्व-सहायता समूहों तथा सहकारी संस्थाओं द्वारा 75 लाख ध्वजों का निर्माण किया गया है। भारत सरकार की संस्थाओं से भी ध्वज प्राप्त हुए हैं। सभी जिलों में हर घर तिरंगा के लिए वातावरण निर्माण की गतिविधियाँ जारी हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button