सरकारी नौकरी छोड़ो या मरो, हिज्बुल का कश्मीरियों को फरमान

 नई दिल्ली
आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन ने एक विडियो जारी करके कश्मीरियों को धमकी दी है कि सरकारी नौकरी छोड़ो या फिर मरने के लिए तैयार रहो। मंगलवार को वॉट्सऐप ग्रुप पर यह विडियो काफी सर्कुलेट हुआ है। आतंकी संगठन ने धमकी दी है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस, भारतीय सेना और अन्य सभी सुरक्षा बलों के साथ-साथ केंद्र सरकार में काम करने वाले उन सभी कश्मीरियों की हत्या कर देंगे जो अगले चार दिनों के अंदर इस्तीफा नहीं देते हैं। विडियो में सरकारी नौकरी नहीं छोड़ने वाले के परिवार के सदस्यों को भी जान से मारने की धमकी दी गई है। विडियो दो मिनट का है। विडियो के बैकग्राउंड में जम्मू-कश्मीर पुलिस, सुरक्षा बलों और हिज्बुल मुजाहिदीन के बैनर का फोटो है। बैनर पर उर्दू और इंग्लिश में उमर इब्ने खिताब लिखा है। उमर इब्ने खिताब संभवत: हिज्बुल मुजाहिदीन का प्रवक्ता है। उसने ही विडियो में कश्मीरियों को धमकी दी है। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने विडियो की प्रमाणिकता की पुष्टि की है। 
 
विडियो में बोलने वाले शख्स ने खुद को हिज्बुल का प्रतिनिधि बताया है और कहा है कि ग्रुप के सदस्य उन सभी कश्मीरियों के परिवार के लिए एक संदेश लेकर इलाके में आए हैं जो जम्मू-कश्मीर पुलिस, एसटीएफ, सीआईडी, ट्रैफिक पुलिस, राष्ट्रीय राइफल्स, बीएसएफ, सीआरपीएफ और इस तरह की अन्य सर्विसेज में जॉब करते हैं। वे लोग किस इलाके में आए हैं, इसका खुलासा नहीं हुआ है। विडियो में बोलने वाले शख्स ने सुरक्षा बलों, खुफिया एजेंसियों और केंद्र सरकार की सर्विसेज में काम करने वाले कश्मीरियों से अपनी नौकरियां छोड़ने और अपने इस्तीफे का सबूत इंटरनेट पर अपलोड करने का हुक्म दिया है। उसने कहा है, 'हमें और दुनिया को दिखा दो कि तुम सभी ने अपनी नौकरी छोड़ दी और हमारी आजादी की लड़ाई में शामिल हो गए हो।' 

आगे विडियो में धमकी देते हुए कहा गया है, 'लेकिन यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि चार दिनों के बाद तुमलोगों का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया जाएगा। तुम सभी हमारे हाथों से मारे जाओगे, तुम सभी की हत्या हो जाएगी।' विडियो में चेतावनी देते हुए कहा गया है, 'अगर तुम यह सोचते हो कि अपनी ड्यूटी पर ही रहोगे और घर नहीं आओगे तो हम तुम्हारी जगह तुम्हारे परिवार के किसी भी सदस्य की हत्या कर देंगे जो हमारे हाथ आ जाएंगे।' 

विडियो में एसपीओ और घरों से काम करने वाले मुखबिरों को भी इस्तीफा देने और शांत रहने का हुक्म दिया है। उसने कहा है, 'खुद को मत बेचो और सिर्फ 6,000 रुपये के लिए मत मरो।' 

हिज्बुल मुजाहिदीन एक प्रतिबंधित आतंकी संगठन है जिसका मुखिया पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर का सैयद सलाहुद्दीन है। यह गुट जम्मू-कश्मीर के जमात-ए-इस्लामी का हथियारबंद विंग है। जुलाई 2016 में इसके कश्मीर के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से कश्मीर में नई आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने में हिज्बुल मुजाहिदीन सबसे आगे है। 
 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button