यमुनोत्री हाईवे पर हादसे में 26 यात्रियों की मौत के बाद जागा परिवहन विभाग, यात्रा मार्ग पर इस तरह होगी सख्ती

देहरादून
यमुनोत्री हाईवे पर रविवार को हुए भीषण हादसे में 26 लोगों की जान चली गई। इस सीजन के सबसे बड़े हादसे के बाद राज्य सरकार पूरी तरह से अलर्ट मोड़ पर आ गई है। खासकर परिवहन विभाग ने इस हादसे को गंभीरता से लिया है। जिसके बाद चारधाम यात्रा मार्ग पर चल रही गाड़ियों और ड्राइवरों के लिए गाइडलाइन जारी की गई है। साथ ही परिवहन मंत्री चंदनराम दास ने यात्रा मार्ग पर चल रहे ड्राइवरों के लिए मोबाइल टीम के जरिए चेकिंग कर उनकी जांच करने के निर्देश दिए हैं। ब्लैक स्पॉट, संवेदनशील स्थलों पर कैश बैरियर लगाने के निर्देश राज्य में सड़क दुर्घटनाओं के मामलों की बढ़ती संख्या पर चिन्ता व्यक्त करते हुए मंत्री ने कहा कि कोई भी दुर्घटना घटित होना अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है।

 मंत्री ने भविष्य में पर्वतीय क्षेत्रों में दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए विशिष्ट कार्ययोजना बनाये जाने पर बल दिया। मंत्री ने सभी ब्लैक स्पॉट, संवेदनशील स्थलों पर कैश बैरियर लगाये जाने, ओवरस्पीड,नशे की हालत में वाहन चलाने वाले चालकों के विरूद्ध कठोर प्रवर्तन की कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये। साथ ही निर्देश दिये गये कि समय-समय पर मोबाईल टीम द्वारा चालक की दशा की भी जांच की जाए कि कहीं चालक अस्वस्थ अथवा थका हुआ तो नहीं है। इसके साथ ही मंत्री ने चालकों को समय-समय पर प्रशिक्षण प्रदान करने के भी निर्देश दिये गये। कैबिनेट मंत्री ने विभाग को फर्स्ट रेस्पोन्डर प्रशिक्षण प्रदान करने को कहा है, जिससे घायलों को तत्काल फर्स्ट एड उपलब्ध कराते हुए, उनकी जान बचायी जा सके।

 मंत्री ने यह भी निर्देश दिये गये कि निगम स्तर पर वाहन चालकों एवं परिचालकों के लिए विश्राम स्थल की उचित व्यवस्था की जाये। करों की वसूली को सरलीकरण करने के निर्देश कैबिनेट मंत्री चन्दन राम दास ने परिवहन आयुक्त कार्यालय, देहरादून में विभागीय समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में परिवहन मंत्री द्वारा राजस्व, सड़क सुरक्षा, डिजीटाईजेशन, निर्माण कार्यों एवं प्रवर्तन कार्यों की समीक्षा करते हुए विभागीय अधिकारियों को जरुरी निर्देश दिये हैं। मंत्री ने वाहन स्वामियों से भिन्न-भिन्न नामों से (ग्रीन उपकर, प्रवेश उपकर आदि) करो की वसूली से भ्रम की स्थिति पैदा होने की बात की है। इसको लेकर मंत्री ने ढांचे को तर्कसंगत बनाते हुए उसका सरलीकरण करने के निर्देश दिए। साथ ही परिवहन मंत्री ने अधिकारियों से केवल करों की वसूली ही पर फोकस न करने की बात की है। उन्होंने अधिकारियों को परिवहन विभाग की पारदर्शी और त्वरित सेवा सुगमता से प्राप्त हो सके इस पर फोकस करने को कहा है। मंत्री ने कहा कि विभाग द्वारा यात्रा मार्गों पर जो चेकपोस्टें स्थापित की गयी है, यहां नेटवर्क कनेक्टिविटी न होने के कारण वाहनों के प्रपत्रों की ऑनलाईन जांच नहीं हो पा रही है, जिससे वाहन स्थानियों को अनावश्यक विलम्ब हो रहा है और चेकपोस्ट पर लाईन भी लग रही है। ऐसे में मंत्री ने चैकपोस्टों को ऐसे स्थान पर स्थापित किया जाये जहां कनेक्टिविटी उपलब्ध हो और वाहन स्वामियों को कम से कम परेशानी हो।  
 

Related Articles

Back to top button