कश्मीर में बिगड़ते हालात के बीच कुछ बड़ा करने जा रही है सरकार? कल अमित शाह ने बुलाई बड़ी बैठक

नई दिल्ली
 देश के गृहमंत्री अमित शाह शनिवार को जम्मू कश्मीर के हालात पर एक समीक्षा बैठक करने वाले हैं। यह बैठक जम्मू कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था के हालात को लेकर होने वाली है। अमित शाह इस उच्च स्तरीय मीटिंग की अध्यक्षत करेंगे। इस बैठक में सेना और पुलिस के साथ-साथ उपराज्यपाल मनोज सिन्हा भी शामिल होंगे। इस बैठक में एनएसए अजीत डोभाल के भी शामिल होने की बात कही जा रही है। आपको बता दें कि पिछले 15 दिनों के अंदर अमित शाह इस तरह की दूसरी मीटिंग करेंगे।

रिपोर्ट के अनुसार, गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने एनडीटीवी को बताया है कि अमित शाह ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से बात की है और कश्मीरी पंडितों की हो रही टारगेट किलिंग को लेकर सीधा जवाब मांगा है। अमित शाह ने जमीनी हालात जानने के लिए एलजी को दिल्ली बुलाया है। अधिकारी ने कहा है, "3 जून को एक अहम बैठक होने वाली है, जिसमें केंद्र शासित प्रदेश में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा को लेकर चर्चा होगी।"

कश्मीर में बढ़ गई है टारगेट किलिंग
आपको बता दें कि केंद्र सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों की वापसी को सुनिश्चित करना चाहती है, लेकिन आतंकवादियों ने कश्मीरी हिंदुओं की टारगेट किलिंग करना शुरू कर दिया है। पिछले कुछ महीनों में कश्मीरी पंडितों की हत्या की घटनाएं बहुत बढ़ी हैं। ऐसे में कश्मीरी पंडित घाटी में अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं और उन्होंने सरकार को फिर से पलायन की धमकी दे दी है। सरकार के तमाम आश्वासनों के बावजूद कश्मीरी हिंदू घाटी में खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं।

एलजी ने लिया अहम फैसला
घाटी में इन हालात के बीच उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कश्मीरी हिंदू सरकारी कर्मचारियों का जिला मुख्यालय में ट्रांसफर करने का आदेश दिया है। उन्होंने यह फैसला बुधवार को श्रीनगर में एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता के बाद लिया, जिसमें पुलिस और नागरिक प्रशासन दोनों के शीर्ष अधिकारी शामिल हुए। इस बैठक में फैसला लिया गया कि दूर-दराज के क्षेत्रों में कार्यरत हिंदू-अल्पसंख्यक सरकारी कर्मचारियों का कश्मीर घाटी में जिला मुख्यालय में ट्रांसफर किया जाएगा।

 

Related Articles

Back to top button