जम्मू कश्मीर में पंडितों में लगातार बढ़ता जा रहा गुस्सा, बारामूला मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर

 

श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ कड़े एक्शन की मांग को लेकर कश्मीरी पंडितों का प्रदर्शन जारी है। जम्मू कश्मीर में आतंकवाद को लेकर कश्मीरी पंडितों में लगातार गुस्सा बढ़ता जा रहा है। 12 मई को कश्मीरी पंडित राहुल भट  की हत्या के विरोध में प्रदर्शन अभी भी जारी हैं। इस बीच बारामूला के करेरी इलाके में नजीभात चौराहे पर सुरक्षाबलों ने कुछ आतंकवादियों को घेर लिया। IGP कश्मीर विजय कुमार, जम्मू-कश्मीर ने बताया कि मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए हैं। जम्मू-कश्मीर पुलिस का एक जवान वीरगति को प्राप्त हुआ।

कश्मीर पंडितों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। पिछले दिनों घाटी के 350 से अधिक सरकारी कर्मचारियों ने नौकरी छोड़ने के लिए अपना इस्तीफा सौंप दिया था।  उन्होंने मार्च भी निकाला था। हालांकि बाद में सरकार ने उन्हें हर संभव मदद दिलाने का वादा किया था। सोमवार को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कश्मीरी पंडितों से मुलाकात की थी। उन्होंने कश्मीरी पंडितों की शिकायतों के समाधान का आश्वासन दिया था। न्यूज एजेंसी ANI से एक कश्मीर पंडित ने कहा कि एलजी ने आश्वासन दिया कि वह शिकायतों को देखेंगे।  उधर, पिछले दिनों प्रशासन व पुलिस ने कांग्रेस नेताओं को मध्य कश्मीर के बड़गाम के शेखपोरा जाने से रोक दिया था। प्रदेश कांग्रेस कमेटी जम्मू कश्मीर के प्रधान गुलाम अहमद मीर, कार्यवाहक प्रधान रमण भल्ला व अन्य नेता रविवार को दिवंगत कश्मीरी हिंदू कर्मी राहुल भट्ट के शेखपोरा में घर में परिजनों, रिश्तेदारों से मिलने के लिए जा रहे थे।

राहुल भट कीचदूरा गांव  में तहसीलदार के कार्यालय पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वे मूल रूप से बडगाम के संग्रामपोरा गांव के रहने वाले थे। उन्हें प्रवासी कश्मीरी पंडित समुदाय के लिए प्रधान मंत्री के विशेष पैकेज के तहत 2010 में राजस्व विभाग में नियुक्त किया गया था।

इस बीच मंगलवार को आतंकवादियों ने श्रीनगर जिले के अंचार इलाके के गनी मोहल्ला में कांस्टेबल सैफुल्लाह कादरी की उनके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर रेंज) विजय कुमार के मुताबिक उनकी एक सात साल की बेटी गोली लगने से घायल हो गई।

Related Articles

Back to top button