हेलीकॉप्टर से एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण

नई दिल्ली
भारतीय सेना (Indian Army) की ताकत अब पहले से और ज्यादा बढने वाली है। सोमवार को देश में विकसित हेलीकॉप्टर से एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल 'हेलिना' का ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। यह मिसाइल किसी भी परिस्थिति में दुश्मन को सबक सिखाने में कारगार है।

भारत ने राजस्थान में पोखरण रेंज में सोमवार को दुनिया के सबसे उन्नत टैंक रोधी हथियारों में से एक हेलिना गाइडेड मिसाइल सिस्टम का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। इस मिसाइल को होम मेड एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर से लॉन्च किया गया। यह परीक्षण संयुक्त रूप से रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) के वैज्ञानिकों, भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना (Indian Air Force)की देखरेख में किया गया।

 

हेलिना तीसरी पीढ़ी की फायर एंड फॉरगेट क्लास एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल सिस्टम है जो एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर पर लगा है। यह मिसाइल दिन-रात और हर मौसम में कारगर है। यह मिसाइल युद्ध के मैदान में सीधे युद्धक टैंकों को हराने की क्षमता रखती है। इसके लक्ष्य को सीधे हिट मोड और टॉप अटैक मोड में भी लगाया जा सकता है।

भारतीय सेना के संस्करण को हेलिना के नाम से जाना जाता है जबकि भारतीय वायु सेना के संस्करण को ध्रुवस्त्र कहा जाता है। उधर इससे एक दिन पहले, DRDO ने पोखरण रेगिस्तान से पिनाका Mk-1 रॉकेट सिस्टम के उन्नत संस्करण का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। पिछले दो हफ्तों में अलग-अलग रेंज के लिए 24 रॉकेट सिस्टम दागे गए।

Related Articles

Back to top button