गुजरात और हिमाचल प्रदेश के हर विधानसभा क्षेत्र में बड़ी रैली करेगी भाजपा, मानसून के बाद पकड़ेगी रफ्तार

नई दिल्ली।
 
भाजपा नेतृत्व ने हिमाचल प्रदेश व गुजरात के विधानसभा चुनावों में हर विधानसभा क्षेत्र में केंद्रीय नेताओं को पहुंचाने व बड़ी रैली करने की योजना तैयार की है। मानसून के समाप्त होते ही इस पर तेजी से काम शुरू हो जाएगा। गुजरात में 182 विधानसभा सीटें हैं, जबकि हिमाचल प्रदेश में 68 सीटें हैं। दोनों राज्यों में भाजपा की सरकार है और वह उनको बरकरार रखने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है।

भाजपा ने बीते अप्रैल से ही दोनों राज्यों के लिए तैयारियां शुरू कर दी थी। पार्टी के बड़े नेताओं ने राज्यों के लगातार दौरे भी किए हैं। अब पार्टी मानसून के बाद दोनों राज्यों में सभी विधानसभा क्षेत्रों में चुनावी रैलियों की तैयारी करने जा रही है। सूत्रों के अनुसार, पार्टी ने तय किया है कि मुख्य चुनाव अभियान शुरू होने के पहले दोनों राज्यों की हर विधानसभा सीट पर कम से कम एक केंद्रीय नेता एक बड़ी रैली करेगा। इनमें केंद्रीय मंत्री व राष्ट्रीय पदाधिकारियों के साथ विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री व अन्य प्रमुख नेता शामिल रहेंगे।

गौरतलब है कि दोनों राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं। बीते विधानसभा चुनाव में भाजपा को गुजरात में कांटे की लड़ाई का सामना करना पड़ा था। हिमाचल प्रदेश में भी भाजपा को जीत तो मिली थी, लेकिन उसके मुख्यमंत्री पद के चेहरे प्रेम कुमार धूमल खुद चुनाव हार गए थे। हिमाचल प्रदेश में भाजपा की चिंता थोड़ी इसलिए भी बढ़ी हुई है, क्योंकि वहां पर कुछ समय पहले हुए उप चुनावों में पार्टी को हार मिली थी। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का गृह प्रदेश होने से वह तैयारियों में पूरी तरह से चाक चौबंद रहना चाहती है।

भाजपा नेतृत्व ने गुजरात में बीते साल पूरी सरकार को ही बदल दिया था। वहां पर कांग्रेस में भी उसने काफी सेंध लगाई है। राज्य के कांग्रेस के बड़े नेता अहमद पटेल के निधन के बाद भी कांग्रेस कमजोर हुई है। इसके बावजूद भाजपा चुनावी तैयारियों में पूरी ताकत झोंक रही है। पार्टी के एक प्रमुख नेता ने कहा है कि दोनों राज्यों में इन विधानसभा चुनावों के डेढ़ साल बाद लोकसभा चुनाव भी होने हैं। ऐसे में पार्टी की रणनीति हर बूथ पर अपनी ताकत बढ़ाने की है।

 

Related Articles

Back to top button