जच्चा-बच्चा पर संकट: तापमान 44 डिग्री और बरामदे में प्रसूता और नवजात

आगरा
44 डिग्री तापमान में अस्पतालों में मरीजों का हाल बेहाल हैं। हालात ये हैं कि नवजातों को उनकी दादी, नानी, मौसी गोद में लेकर घूमाती रहती हैं। पहली मंजिल पर बने प्रसूता वार्ड के बरामदे में फर्श पर नवजातों को लेकर बैठ जाते हैं। अस्पताल में भर्ती मरीजों को भीषण गर्मी में पसीने से तरबतर होते हुए अपना इलाज कराना पड़ रहा है। अस्पताल में लगे पंखे भी गर्मी में गर्म हवा दे रहे हैं। तीमारदार शिकायत करते हैं, तो जिम्मेदार अफसरों का हर बार एक ही जवाब रहता है। पंखा चल तो रहा है।

दूसरी मंजिल पर होने के कारण वार्ड की दीवारों और छत गर्मी से तपती हैं। इससे वार्ड में भर्ती महिलाओं समेत बच्चों व उनके परिजनों का बुरा हाल है। अस्पताल में भर्ती मरीजों की कई बार गर्मी के कारण तबीयत खराब हो रही है। वहीं तापमान अधिक होने से अस्पताल में भर्ती जच्चा और नवजात बच्चों का बुरा हाल हो रहा है। जगनेर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर डिलीवरी रूम में दो पलंग व शिशु का वजन तोलने की व्यवस्था है। यहां एक साथ दो महिलाओं की डिलीवरी एक साथ हो सकती है। यहां प्रसव कक्ष में पंखे व एसी लगे हुए हैं। प्रसव के बाद महिला को वार्ड रूम में रखा जाता है। यहां चार पलंग बिछे हुए हैं। उसमें पंखे लगे हुए है। दोपहर को ये पंखे गर्म हवा फेंक रहे थे। वार्ड में सफाई की अच्छी व्यवस्था है। यहां शुक्रवार को डॉ. प्रकाशवती ड्यूटी पर उपस्थित मिलीं।

जच्चा-बच्चा कक्ष में एसी लेकिन वार्ड में सिर्फ पंखे
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिचपुरी में कुछ हद तक व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं। यहां डिलीवरी रूम एवं जच्चा-बच्चा कक्ष में एसी चालू मिला। वहीं अन्य कमरों में भी कूलर व पंखे चालू थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी के अनुसार केंद्र पर रोजाना चार से छह डिलीवरी होती हैं। एंबुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध है। तापमान के अनुसार एसी चलाए जाते हैं। ओपीडी में भी मरीजों को उपचार दिया जा रहा है। इन दिनों पेट दर्द एवं उल्टी के मरीज अधिक संख्या में पहुंच रहे हैं।

प्रसूताओं के वार्ड में एसी व कूलर लगने थे
जननी सुरक्षा के तहत सरकारी अस्पतालों में हर मौसम के हिसाब से बजट आता है। वहीं गर्मियों के लिए प्रसूताओं के भोजन से लेकर कूलर, पंखे और एसी लगाने का प्रावधान है। वहीं जिला महिला चिकित्सालय की बात करें तो सौ शैया अस्पताल में एसी शुरू में ही लगाए जाने थे। सामुदायिक केंद्रों पर भी यही व्यवस्था करने का प्रावधान है। लेकिन जिले के हर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव कक्ष व महिला वार्ड में अभी तक एसी की व्यवस्था नहीं है।

न ठंडा पानी और न ही लगे हैं कूलर
इन दिनों चिलचिलाती तेज धूप के चलते भीषण गर्मी पड़ रही है । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पिनाहट के प्रसव कक्ष में प्रसूताओ को भीषण गर्मी से बचाव के लिए अभी तक ना तो ठंडे पानी की व्यवस्था की गई है। और ना ही कूलर लगाए गए हैं। इसके चलते प्रसूताओं और उनके तीमारदारों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है । पिनाहट की बिजली व्यवस्था चरमरायी हुई है। यहां अघोषित विद्युत कटौती के चलते पंखे भी नहीं चल रहे हैं। तेज धूप और भीषण गर्मी के चलते पंखे भी गर्म हवा दे रहे हैं। लोगों ने अस्पताल में कूलर और वाटर कूलर की मांग की है।

Related Articles

Back to top button