पुल‍िस मुठभेड़ में धराए डकैतों ने उगले राज

धनबाद
मुथूट फिनकार्प डाका कांड में गिरफ्तार दोनों अपराधियों राहुल और आरिफ ने पूछताछ में कई राज उगले हैं। दोनों ने बिहार के कई अपराधियों के बारे में पुलिस को जानकारी दी है। धनबाद पुलिस ने बिहार पुलिस से इन अपराधियों के बारे में जानकारी मांगी है। इस कांड का मास्टर माइंड राजीव व सुबोध बेउर जेल पटना में बंद है। दोनों अपराधी जेल के भीतर से ही अपराध का संचालन कर रहे हैं। इधर मुठभेड़ को लेकर जहां पुलिस प्राथमिकी कर चुकी है, वहीं मुथूट कंपनी के प्रबंधक की ओर से भी गुरुवार को प्राथमिकी कराई जाएगी

पूछताछ के दौरान आसिफ ने इस घटना में तकरीबन एक दर्जन से अपराधियों के शामिल होने का खुलासा पुलिस के पास किया है। सरायढेला थाना में पुलिस को दिए गए बयान में राघव एवं आशिफ ने पुलिस को बताया है कि उसके नेटवर्क में भीम नामक एक अपराधी भी शामिल है। जमशेदपुर, राजस्थान के भिवंडी तथा गोड्डा में कई लूट की घटना को अंजाम दिया है। जिसमें उनके सहयोगी शंकर उर्फ रमेश ठाकुर, भूली निवासी शुभम कुमार उर्फ रैबिट शिवम कुमार उर्फ छोटू उर्फ टोकियो , रवि रंजन उर्फ बादशाह , राहुल सिंह उर्फ राघव,रवि रंजन उर्फ रम्मी, शिवम कुमार,अमित सिंह उर्फ मैनेजर साहब ,अमन सिंह उर्फ साहिल उर्फ कालिया, पप्पू सिंह ,गुड्डू उर्फ प्रोफेसर, मांझी उर्फ छोटू सोनू सिंह उर्फ खगेंद्र नारायण सिंह उर्फ खटीक उर्फ संतोष सिंह, मुन्ना माइकल उर्फ राजा साहनी शामिल है।

आसिफ एवं राहुल ने यह भी बताया है कि समस्तीपुर लदौरा के शंकर उर्फ रमेश ठाकुर के साथ राजस्थान के भिवंडी में एक्सिस बैंक को तीन चार महीने पहले लूटने में वह शामिल था। इस घटना में उसे हिस्सा नहीं मिला था। शंकर ने बाद में देने का भरोसा उनलोगों को दिलाया था। बैंकमोड़ की घटना से दस दिन पूर्व ही शंकर आकर उनलोगों से मिला। आफर दिया कि धनबाद में क्राइम करना है। धनबाद की घटना के बाद ही पूर्व में लूटे गए संपत्ति का हिस्सा उनलोगों को मिलेगा। इसके वे लोग क्राइम करने के लिए तैयार हो गए।

शंकर ने उन दोनों को 27-28 अगस्त धनबाद बुलाया था। समस्तीपुर से वे लोग मोर्य एक्सप्रेस से कुल्टी स्टेशन पर उतरकर मैथन डैम आए थे। वहीं भूली के शुभम कुमार उर्फ रैबिट से उसकी मुलाकात हुई थी। मैथन डैम के निकट उसे गोल्डन नामक एक युवक ने किराए पर मकान दिलाया था। शिवम कुमार उर्फ छोटू उर्फ टोकियो पहले से वहां मौजूद था। एक दिन बाद रमेश ठाकुर उर्फ शंकर उसके रूम में आया तथा रवि रंजन उर्फ उर्फ बादशाह भी उसके साथ था। वहीं बैठकर बैंकमोड़ में क्राइम करने की प्लानिंग हुई।

Related Articles

Back to top button