संसद में बहस जारी- वोटिंग को अनिवार्य बनाने पर विचार कर रही सरकार

नई दिल्ली।
लोकसभा में शुक्रवार को गैर सरकारी कामकाज में अनिवार्य मतदान संबंधी गैर सरकारी विधेयक पर चर्चा में विपक्षी सदस्यों ने कहा है कि देश में अनिवार्य मतदान की बाध्यता उचित नहीं होगी। सरकार को ऐसी व्यवस्था बनानी चाहिए कि लोग चुनावी प्रक्रिया की तरफ स्वत: आकर्षित हों। दूसरी तरफ, भाजपा के कुछ सांसदों ने कहा कि अनिवार्य मतदान होना चाहिए, क्योंकि इससे लोकतंत्र मजबूत होगा। इस विधेयक पर चर्चा अभी जारी रहेगी। भाजपा सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल द्वारा लाए गए गैर सरकारी विधेयक 'अनिवार्य मतदान विधेयक, 2019' पर चर्चा को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस के डीन कुरियाकोस ने कहा कि हमें एक व्यवस्था बनानी होगी, जिससे लोगों को मतदान के लिए आकर्षित किया जा सके। लोकतंत्र में लोगों का विश्वास बढ़े। उन्होंने कहा कि हमें चुनावी तंत्र में धनबल और बाहुबल को खत्म करने की जरूरत है। कांग्रेस सांसद ने कहा कि एनआरआई लोगों को मतदान का अधिकार दिया जाना चाहिए, क्योंकि वे हमारे देश में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें मतदान के लिए मत पत्रों की तरफ वापस लौटने के लिए चर्चा करनी होगी ताकि लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास बहाल रहे।

मतदान को अनिवार्य बनाना बहुत जरूरी : नामग्याल
भाजपा सांसद जमयांग नामग्याल ने कहा कि मतदान को अनिवार्य बनाना बहुत जरूरी है। मतदान एक मौलिक कर्तव्य हो जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अनिवार्य मतदान से सैनिकों और अर्द्धसैनिक बलों को अलग रखना चाहिए। उनके अनुसार, बहुत सारे लोग मतदान के समय घर से नहीं निकलते हैं, लेकिन जब जन प्रतिनिधि उनके पास जाते हैं तो वो बुरा-भला कहते हैं। वह हैरान हैं कि आज भी बहुत सारे लोगों के दिमाग में भर दिया गया है कि राजनीति एक गंदा खेल है। यह अच्छा विचार नहीं है। राजनीतिक कभी गंदी नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी का राजनीति या मतदान से दूर रहना लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं रहेगा। भाजपा सांसद ने कहा कि मतदाता पहचान पत्र को आधार के साथ जोड़ना चाहिए।
 

मतदान अनिवार्य नहीं किया जाना चाहिए : बशीर
चर्चा में भाग लेते हुए आईयूएमएल के ईटी मोहम्मद बशीर ने कहा कि इस देश में भौगोलिक एवं अन्य सीमाओं की वजह से अनिवार्य मतदान नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में प्रवासी भारतीयों का मतदान सुनिश्चित करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा। उन्होंने कहा कि प्रॉक्सी या ऑनलाइन माध्यम से एनआरआई के मतदान को सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे देश में इसे लागू नहीं किया जा रहा और इसके पीछे कोई एजेंडा नजर आता है। आईयूएमएल नेता ने कहा कि दिव्यांगों के लिए डाक मतदान की व्यवस्था होनी चाहिए।

मतदान अनिवार्य होने से भारत दुनिया में और मजबूत होगा : बिधूड़ी
भाजपा के रमेश बिधूड़ी ने कहा कि यह सरकार आने के बाद पहले दिन से 'एक देश, एक चुनाव' के पक्ष में है। उन्होंने कहा कि अगर मतदान अनिवार्य होगा तो दुनिया के अंदर भारत की स्थिति और सुधरेगी। उन्होंने कहा कि दुनिया में केवल 33 देशों में अनिवार्य मतदान है, वहीं कई देशों में लोगों का मतदान करने के बाद जन प्रतिनिधियों से विश्वास उठ जाता है। बिधूड़ी ने कहा कि कई लोग ‘गुंडा तत्वों’ के डर से मतदान नहीं करने जाते। उन्होंने कहा कि अनिवार्य मतदान से ऐसे तत्वों से मुक्ति मिलेगी और देश में अच्छा नेतृत्व उभरकर आएगा। मतदान अनिवार्य किया जाए और आधार के साथ उसे जोड़ दिया जाए।

कांग्रेस के खलीक ने विरोध किया
कांग्रेस के अब्दुल खलीक ने व्यक्तिगत स्तर पर विधेयक का विरोध किया और कहा कि लोकतंत्र में 'चुनने या नहीं चुनने का अधिकार' है और अनिवार्य मतदान में लोगों को किसी को चुनना ही होगा।

Related Articles

Back to top button