ज्यादा श्रेय मत लो, शिवसेना में टूट के लिए सिर्फ उद्धव जिम्मेदार; देवेंद्र फडणवीस से बोले राज ठाकरे

 मुंबई।
 
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख राज ठाकरे ने शिवसेना में बगावत को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की आलोचना की है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे आज जिंदा होते तो यह संभव नहीं होता। एमएनएस चीफ जी-24 ऑवर्स को दिए एक इंटरव्यू में बोल रहे थे। राज ठाकरे ने कहा कि भाजपा को शिवसेना के विभाजन का श्रेय नहीं लेना चाहिए, यह पूरी तरह से उद्धव ठाकरे के कारण हुआ है। उन्होंने कहा, ''देवेंद्र फडणवीस मेरे पास आए। मैंने उनसे कहा कि ज्यादा श्रेय मत लो। जो कुछ हुआ वह तुमने नहीं किया। न अमित शाह और न ही बीजेपी के किसी नेता ने किया है। आपको इसका श्रेय उद्धव ठाकरे को देना होगा।''

बालासाहब ठाकरे के भतीजे ने राज ठाकरे से आगे कहा, ''संजय राउत पर तमाम आरोप लगे कि उनके बयानों के कारण ऐसा हुआ। इसमें संजय राउत का क्या रिश्ता है? मैं समझ सकता हूं कि हर दिन वे टेलीविजन पर आते हैं। हर दिन वे कुछ न कुछ कहते हैं, जो लोगों को परेशान कर सकता है। लेकिन उनके बयानों से विधायक बंटे हुए नहीं थे।'' उन्होंने कहा, ''जब बालासाहेब ठाकरे ने सामना शुरू किया तो उनका खर्च 3.54 लाख था। अब वह कुछ ही लोगों के पास जाता है। तब यह बहुत लोकप्रिय था। आज कितने लोग मार्मिकता पढ़ते हैं? कोई नहीं, क्योंकि इसमें बालासाहेब नहीं हैं। शिवसेना की भी यही स्थिति है।''

राज ठाकरे ने उद्धव ठाकरे और शिवसेना की ऐसे शब्दों में आलोचना की कि अगर कोई किस्मत को सफल कहता है तो उसका पतन शुरू हो जाता है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर बालासाहेब ठाकरे होते तो शिवसेना में बगावत नहीं होता। यह संभव ही नहीं था। उन्होंने कहा, ''शिवसेना को एक पार्टी के रूप में नहीं देखें। शिवसेना बालासाहेब जैसे विचार रखने वाले लोगों से बनी थी।''

राज ठाकरे ने यह भी कहा कि शिवसेना नेताओं ने यह दिखावा किया कि उन्हें मुख्यमंत्री का पद नहीं दिया गया। जब विधानसभा प्रचार के दौरान उद्धव ठाकरे उनके बगल में बैठे थे तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री होंगे। उसके बाद अमित शाह ने यह भी कहा कि बीजेपी का ही मुख्यमंत्री बनेगा। उस समय उद्धव ठाकरे ने एतराज क्यों नहीं किया। नतीजे आने के बाद ऐसा क्यों किया।

 

Related Articles

Back to top button