Good News: अब सब्जियों की महंगाई रोकने सरकार उठा रही जरूरी कदम

Good News: बढ़ती महंगाई से सब्जियों के दाम बढ़ने लगे. ऐसे में सरकार अब सब्जियों की कीमतों पर भी नजर रखने जा रही है.

Good News: उज्जवल प्रदेश, नई दिल्ली. देश में बढ़ती खाद्य महंगाई ने आम लोगों की कमर तोड़ दी है, ऐसे में ये सरकार के लिए भी चुनौती बनी हुई है. लेकिन अब सरकार खाद्य मुद्रास्‍फीति पर काबू पाने के लिए कुछ जरूरी कदम उठाने जा रही है. इसके लिए सरकार आवश्‍यक वस्‍तुओं की सूची में 16 नए नामों को शामिल करने पर विचार कर रही है.

दरअसल, सरकारी की योजना सब्जियों को भी निगरानी सूची में डालने की है. क्योंकि आवश्‍यक वस्‍तुओं की सूची में शामिल चीजों की कीमतों पर सरकार नजर रखती है. ऐसा करने से इनकी कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलती है. यही नहीं कीमतों में अत्यधिक बढ़ोतरी होने पर भी सरकार दाम को नियंत्रित करने के लिए हस्‍तक्षेप भी करती है.

Also Read: TS Singh Dev Wife Death: पूर्व डिप्टी सीएम सिंहदेव की पत्नी बेबी राज का निधन

बता दें कि खाने-पीने की चीजों में सबसे ज्यादा उतार-चढ़ाव सब्जियों की कीमतों में देखने को मिलता है. इसलिए सरकार मूल्य निगरानी वाली 16 नई संभावित वस्तुओं में सब्जियों को शामिल करने जा रही है. गौरतलब है कि फिलहाल सरकार इस सूची में शामिल सिर्फ 22 वस्तुओं की कीमतों की ही निगरानी करती है. अब इस सूची में 16 नाम और जुड़ने जा रहे हैं. इसके बाद इनकी संख्या बढ़कर 38 हो जाएगी.

कीमतों को नियंत्रित करने में मिलती है मदद

इस सूची में शामिल जरूरी वस्तुओं की कीमतों होने वाले फेरबदल पर सरकार नजर रखती है. इससे सरकार उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक पर इनके पड़ने वाले प्रभाव का आंकलन कर सकेगी. बता दें कि देशभर के 167 केंद्रों से इन वस्‍तुओं के थोक और खुदरा कीमतों को रोजाना एकत्रित किया जाता है. इसके बाद इनका विश्‍लेषण किया जाता है. आवश्‍यक वस्‍तुओं के दाम बढ़ने पर सरकार हस्‍तक्षेप करके कीमतों को नियंत्रित करती है. इन हस्‍तक्षेपों को मूल्‍य स्थिरीकरण कोष अथवा मूल्‍य समर्थन योजना जैसी स्‍कीमों के जरिए आगे बढ़ाया जाता है.

मई में कम हुई खुदरा महंगाई

बता दें कि मई के महीने में थोक मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी दर्ज की गई. तो वहीं खाद्य वस्तुओं की कीमतों में मामूली गिरावट से खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 4.75 फीसदी पर आ गई है. जबकि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में 4.83 फीसदी थी. वहीं, एक साल पहले यानी मई, 2023 में यह 4.31 फीसदी रही थी. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, मई में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति 8.69 प्रतिशत रही, जो अप्रैल में 8.70 प्रतिशत थी.

Also Read: Big Breaking: अब RTE के तहत प्रवेश नहीं देने पर प्राइवेट स्कूलों की मान्यता होगी ख़त्म

यानी एक महीने में इसमें मामूली गिरावट दर्ज की गई. वहीं कुल मुद्रास्फीति में फरवरी, से लगातार गिरावट जारी है. फरवरी में यह 5.1 फीसदी थी जबकि अप्रैल में ये घटकर 4.8 फीसदी पर आ गई. बता दें कि सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक को यह सुनिश्चित करने का काम सौंपा है कि सीपीआई मुद्रास्फीति दो प्रतिशत के उतार-चढ़ाव के साथ चार फीसदी पर बनी रहे.

400 रुपये क्विंटल महंगा हुआ चावल

खास बात यह है कि पिछले कुछ हफ्तों में चावल, दाल और खाद्य तेल की बढ़ती कीमतों पर भी उपभोक्ताओं ने चिंता व्यक्त की है. चावल की कीमत में 400 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हुई है. पिछले महीने हम जो चावल 40 रुपये प्रति किलोग्राम खरीदते थे, वह अब 44 से 45 रुपये प्रति किलोग्राम पर उपलब्ध है. इसी तरह, पिछले एक सप्ताह में दाल की कीमत में 10 रुपये प्रति किलोग्राम और खाद्य तेल की कीमत में 5 से 8 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है. सूजी, बेसन, मैदा की कीमतों में भी 5-10 रुपये प्रति किलोग्राम की वृद्धि हुई है. सरकार को इस मूल्य वृद्धि को रोकने के लिए कुछ कदम उठाने चाहिए.

Related Articles

Back to top button