दो बच्चों की मां के साथ प्यार में बाधा बनने पर बिहार के गोविंद ने की थी वृद्धा की हत्या

कुल्लू
बिहार के किशनगंज जिला के भागल गांव के रहने वाले गोविंद राम के प्यार में कुल्लू जिले के गड़सा की वृद्धा शकुंतला देवी बाधक बन रही थी। उसका गड़सा की दो बच्चों की मां के साथ काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। करीब डेढ़ माह पहले वह महिला को अपने साथ भगाकर भी ले गया था। महिला पांच दिन बाद घर वापस लौटी थी। शकुंतला देवी व ग्रामीण इस बात को लेकर आक्रोशित थे। शकुंतला देवी ने गोविंद राम को एक दिन कुछ लोगों के सामने इस बात को लेकर खरी खोटी सुना दी थी। इसके बाद गोविंद राम ने उसे अपने रास्ते से हटाने का फैसला कर लिया था। 26 जून की रात गोविंद राम ने शकुंतला देवी के माथे पर पत्थर मार उसकी हत्या कर दी थी। शकुंतला देवी ने जान बचाने की भरसक कोशिश की थी। वह काफी देर तक आरोपित से भिड़ती रही। अपनी छोटी बेटी के मोबाइल फोन पर काल पर मदद की गुहार लगाई थी। बेटी को किसी अनहोनी की आशंका हुई तो उसने अपने मायके में किसी परिचित महिला को फोन कर मां का कुशलक्षेम पूछा था।

महिला ने बताया था कि कोई व्यक्ति उसकी मां को पत्थरों से मार रहा है। शकुंतला की हत्या करने के बाद आरोपित गोविंद दोहरानाला स्थित अपने क्वार्टर चला गया था। आरोपित 20 साल से कुल्लू में रहता है। राजमिस्त्री का काम करता है। कोविड के दौरान उसे गड़सा में काम मिल गया। यहां उसका एक महिला से परिचय हो गया। उसका पति नशेड़ी है। ससुर की मौत हो चुकी है। परिचय से बात प्रेम प्रसंग तक पहुंच गई। महिला को भगाया तो ग्रामीण व शकुंतला विरोध में खड़ी हो गई थी।

ऐसे गिरफ्त में आया आरोपित
आरोपित के पास दो मोबाइल सिम थी। उसने दोनों सिम बंद करवा दी थी। कुछ दिन पहले 500 रुपये में मोबाइल फोन खरीदा था। उसमें नई सिम डाली थी। हत्या के मामले में शक के आधार पर पुलिस कई लोगों से पूछताछ कर रही थी। बुधवार को गोविंद राम व पांच अन्य लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया था। लंच के बाद पुलिस ने उसे दोबारा आने को कहा, लेकिन वह नहीं आया। इस बात पर पुलिस को कुछ शक हुआ। पुलिस टीम वीरवार को उसे दोहरानाला से पकड़ कर लाई तो उसने रास्ते में अपना मोबाइल फोन ढांक में फेंक दिया। टीम के एक जवान ने इससे पहले उस मोबाइल फोन से अपने नंबर पर मिस्ड काल की थी। पुलिस ने जब उस नंबर की लोकेशन का पता लगाया तो 26 जून की रात लोकेशन गड़सा में पाई गई। आरोपित कड़ा पहनता था। मृतका की बड़ी बेटी ने उसकी कलाई पर पीतल का कड़ा पहना हुआ देखा था। कड़ा मृतका के बालों में फंसा हुआ था। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तो गोविंद ने सब सच उगल दिया।

Related Articles

Back to top button