ICMR गाइडलाइन: भारत में अनहेल्दी फूड दे रहे 56.4% बीमारियों को न्योता, बचाव के ये हैं उपाय

ICMR Guideline: आईसीएमआर के तहत कार्यरत राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआईएन) ने कहा कि पोषक तत्वों से भरपूर आहार खाने से हृदय संबधित बीमारियों और उच्च रक्तचाप को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

ICMR Guideline: उज्जवल प्रदेश, नई दिल्ली. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने बुधवार को बताया कि भारत में 56.4 प्रतिशत बीमारियों का कारण अस्वास्थ्यकर आहार का सेवन करना है। आईसीएमआर ने आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकताओं को पूरा करने, मोटापा और मधुमेह जैसी बीमारियों से बचने के लिए 17 प्रकार के आहार के सेवन के संबंध में दिशानिर्देश जारी किए हैं।

आईसीएमआर के तहत कार्यरत राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआईएन) ने कहा कि पोषक तत्वों से भरपूर आहार खाने से हृदय संबधित बीमारियों और उच्च रक्तचाप को काफी हद तक कम किया जा सकता है और मधुमेह से भी बचा जा सकता है। इसने कहा, ”स्वस्थ जीवन शैली अपनाने से समय से पहले होने वाली मौत को रोका जा सकता है।” एनआईएन ने कम नमक खाने, तेल और वसा का कम मात्रा में उपयोग करने, उचित व्यायाम करने, चीनी और जंक फूड को कम खाने का आग्रह किया है।

भारत में 56.4% बीमारियों का कारण Unhealthy Diet – ICMR गाइडलाइन

उसने मोटापे को रोकने के लिए स्वस्थ जीवन शैली अपनाने और पोषक तत्वों से भरपूर भोजन का सेवन करने की सलाह दी है। आईसीएमआर-एनआईएन की निदेशक डॉ. हेमलता आर के नेतृत्व में विशेषज्ञों की एक बहु-विषयक समिति ने ‘भारतीयों के लिए आहार संबंधी दिशानिर्देश’ (डीजीआई) का मसौदा तैयार किया है और इसकी विभिन्न वैज्ञानिक समीक्षा भी की हैं।

Also Read: Muslim Population Increased In India: भारत में 43% बढ़ी मुसलमानों की आबादी

इसमें 17 तरह के आहारों को शामिल किया गया है। दिशानिर्देशों में बताया गया कि एक संतुलित आहार में अनाज और मिलेट (मोटे अनाज) से 45 प्रतिशत से अधिक कैलोरी नहीं होनी चाहिए। इसी तरह इसमें दालों, बीन्स और मांस से 15 प्रतिशत तक कैलोरी होनी चाहिए। उसने बाकी कैलोरी को प्राप्त करने के लिए सूखे मेवे, सब्जियों, फलों और दूध का सेवन करने की सलाह दी है।

ICMR ने बताया-रोजाना कितनी चीनी खानी चाहिए?

NIN के मुताबिक पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेने से हार्ट संबधित बीमारियों, व हाई ब्लड प्रेशर को काफी हद तक कम किया जा सकता है। साथ ही डायबिटीज से भी खुद को दूर रखा जा सकता है। राष्ट्रीय पोषण संस्थान ने सिफारिश की है कि भारत के लोगों को अपनी चीनी की खपत को प्रतिदिन 20-25 ग्राम (लगभग एक चम्मच के बराबर) तक सीमित रखना चाहिए।

भारतीयों को प्रोटीन सप्लीमेंट से बचने की सलाह

NIN ने भारतीयों को प्रोटीन सप्लीमेंट से बचने का भी सुझाव दिया है। दावा है कि नियमित रूप से प्रोटीन पाउडर का सेवन करना उचित नहीं है। प्रोटीन पाउडर में अतिरिक्त चीनी, गैर कैलोरी स्वीटनर, और कई कृत्रिम चीजें हो सकती हैं। इसलिए, इसके नियमित सेवन की सलाह नहीं दी जाती है। खास एमिनो एसिड से भरपूर प्रोटीन गैर-संचारी रोगों के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

Also Read: CG Board Result 2024 Live: सीजीबीएसई 10वीं-12वीं के परिणाम जारी, cg.results.nic.in पर देखें रिजल्‍ट

बीमारियों से बचने के लिए कितना तेल खाना चाहिए?

NIN की तरह FDA भी तेल के कम सेवन की सलाह देता है। FDA का मानना है कि एक इंसान के शरीर को रोजाना औसतन 1½ टेबलस्पून तेल की जरूरत होती है। मतलब इंसान को एक दिन में 20 ग्राम से अधिक तेल का सेवन नहीं करना चाहिए। अत्यधिक तेल के सेवन से दिल से जुड़ी कई बीमारियां का खतरा बढ़ जाता है। इंसान डायबिटीज जैसी बीमारी की चपेट में आ सकता है।

Best Indian Diet Plan में क्या-क्या होना चाहिए?

NIN के मुताबिक हमारे दैनिक आहार में 396 ग्राम छोटे अनाज, 28 ग्राम दालें, 82 ग्राम दूध और दुग्ध उत्पाद, 49 ग्राम सब्जियां और 14 ग्राम तेल/घी शामिल होना चाहिए। अगर हम इस डाइट को फॉलो करते हैं तो बीमारियों से बचा जा सकता है।खानपान में बदलाव समय की मांग है।

Sariya Cement Rate Today: जानिए आज 09 मई 2024 के Sariya Cement ka Price

Related Articles

Back to top button