Indian Navy में शामिल हुई, समंदर की साइलेंट किलर है सबमरीन ‘वागीर’

INS Vagir: आईएनएस वागीर, कलावरी क्लास की पांचवीं सबमरीन है जिसे आज भारतीय नौसेना में शामिल कर लिया गया है.नौसेना के अनुसार यह पनडुब्बी भारतीय सेना की क्षमता को बढ़ावा देने का काम करेगी और दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देगी। यह खुफिया, निगरानी और टोही (आईएसआर) पर काम करती है।

नईदिल्ली

भारतीय नौसेना में कलवरी क्लास सबमरीन यानी पनडुब्बी INS वागीर को आज शामिल किया गया. नौसेना की ताकत को बढ़ाने के लिए आईएनएस वागीर को आज 23 जनवरी के दिन शामिल किया गया. जैसे-जैसे भारतीय सीमाओं की सुरक्षा को लेकर खतरा बढ़ता जा रहा है वैसे ही अब इस सुरक्षा व्यवस्था को अभेद्य, अखंड बनाने की तैयारी भी की जा रही है. अब इसी कड़ी में भारतीय नौसेना की ताकत को और बढ़ाने के लिए आईएनएस वागीर आ गई है.

कलवरी क्लास की पांचवीं पनडुब्बी आइएनएस

आईएनएस वागीर, कलावरी क्लास की पांचवीं सबमरीन है. परियोजना-75 के तहत पहली सबमरीन INS कलवरी को भारतीय नौसेना में दिसंबर 2017, दूसरी सबमरीन INS खंडेरी को सितंबर 2019 में, तीसरी सबमरीन INS करंज को मार्च 2021 में और चौथी INS वेला को नवंबर 2021 में सेवा में शामिल किया गया था. आज आईएनएस वागीर भी हिन्द महासागर की शान बन गई. छठी और आखिरी सबमरीन वाग्शीर को 2023 के अंत तक नौसेना को सौंपे जाने की उम्मीद है.

नौसेना के अनुसार यह पनडुब्बी भारतीय सेना की क्षमता को बढ़ावा देने का काम करेगी और दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देगी। यह खुफिया, निगरानी और टोही (आईएसआर) पर काम करती है।

भारतीय नौसेना के अनुसार, पनडुब्बी दुश्मन को रोकने की भारतीय नौसेना की क्षमता में इजाफा करके भारत के समुद्री हितों को आगे बढ़ाएगी। यह संकट के समय में निर्णायक वार करने के लिए खुफिया, निगरानी और टोही (आईएसआर) अभियान के संचालन में भी मददगार साबित होगी।” नौसेना के अनुसार, ‘वागीर’ का अर्थ ‘सैंड शार्क’ है, जो तत्परता एवं निर्भयता के भाव को प्रतिबिंब करती है।

पनडुब्बी भारतीय नौसेना की क्षमता को बढ़ावा देगी ताकि दुश्मन को रोकने में भारत के समुद्री हितों को आगे बढ़ाया जा सके और संकट के समय में निर्णायक वार के लिए खुफिया, निगरानी और टोही (आईएसआर) का संचालन किया जा सके. ‘वागीर’ का अर्थ रेत शार्क है, जो तत्परता और निडरता का प्रतिनिधित्व करती है, ये दो गुण एक पनडुब्बी के लोकाचार के पर्याय हैं.

दुनिया के कुछ बेहतरीन सेंसर से लैस, इसके हथियार पैकेज में पर्याप्त वायर गाइडेड टॉरपीडो और सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलें शामिल हैं, जो दुश्मन के बड़े से बड़े बेड़े को बेअसर कर सकती हैं. नौसेना ने कहा कि पनडुब्बी में विशेष अभियानों के लिए समुद्री कमांडो को लॉन्च करने की क्षमता भी है, जबकि इसके शक्तिशाली डीजल इंजन साइलेंट (खुफिया) मिशन के लिए बैटरी को जल्दी से चार्ज कर सकते हैं.

आत्मरक्षा के लिए इसमें अत्याधुनिक टारपीडो डिकॉय सिस्टम है. हिंद महासागर में चीनी नौसेना की बढ़ती उपस्थिति के बीच आईएनएस वागीर (INS VAGIR) को शामिल किया गया है.

आईएनएस वागीर कलवारी क्लास की 5वीं पनडुब्बी है, जो कि काफी घातक है. इसमें सारे हाईटेक हथियार है. इसकी स्पीड भी अच्छी है और इसका सोनार और रडार सिस्टम भी सबसे बेहतरीन है.

Show More

Related Articles

Back to top button
Join Our Whatsapp Group