भड़काऊ भाषण मामला: यति नरसिंहानंद की मुश्किलें बढ़ी, पुलिस ने दर्ज किए केस

नई दिल्ली

मुखर्जी नगर पुलिस ने बुराड़ी मैदान में आयोजित हिंदू महापंचायत के दौरान भड़काऊ भाषण देने के मामले में यति नरसिंहानंद और पत्रकार सुरेश चव्हाण समेत अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने इस मामले में अब तक कुल चार केस दर्ज किए हैं, जिनमें पत्रकारों से मारपीट व छेड़छाड़ के आरोप में भी कार्रवाई शामिल है।

डीडीए से भी नहीं थी अनुमति : डीसीपी ऊषा रंगनानी ने बताया कि सेव इंडिया फाउंडेशन की तरफ से प्रीत सिंह ने महापंचायत आयोजित करने के लिए अनुमति मांगी थी। लेकिन, बुराड़ी मैदान का स्वामित्व डीडीए के पास है और संगठन ने डीडीए से अनुमति नहीं ली थी। ऐसे में उत्तर पश्चिम जिला पुलिस ने अनुमति नहीं दी।

करीब 800 लोगों के पहुंचने का अनुमान : डीसीपी ने बताया कि अनुमति नहीं मिलने के बाद भी रविवार को प्रीत सिंह मैदान पर पहुंच गया। साथ ही 700 से 800 लोग हिंदू महापंचायत के लिए लोग वहां पहुंच गए और कार्यक्रम शुरू कर दिया गया। पुलिस भी शांति एवं व्यवस्था संभालने के लिए पहुंची। डीसीपी ने बताया कि महापंचायत में कुछ वक्ताओं ने विद्वेष भड़काने वाले भाषण दिए। इसमें यति नरसिंहानंद और पत्रकार सुरेश चव्हाण व अन्य शामिल हैं। डीसीपी के अनुसार, इनके खिलाफ बिना अनुमति के आयोजन करने और भड़काऊ भाषण देने की धारा में एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं, अन्य अज्ञात आरोपियों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। आरोपियों के चिह्नित होने के बाद एफआईआर में उनके नाम जोड़े जाएंगे।

नाम पूछकर हमला करने का आरोप
भड़काऊ भाषण मामले में दर्ज केस के अलावे एक न्यूज पोर्टल के दो पत्रकारों ने भी मुखर्जी नगर थाने में छेड़छाड़ व मारपीट की एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने नाम पूछकर मारपीट का आरोप लगाया है। वहीं, एक महिला पत्रकार ने कहा है कि मोबाइल छीनने की कोशिश की गई। छेड़छाड़ के भी आरोप हैं। डीसीपी ऊषा रंगनानी ने बताया कि कुछ लोग ट्विटर पर वैमनस्य बढ़ाने का वाला ट्वीट कर रहे थे। इसे लेकर भी एक केस दर्ज किया गया है।

Related Articles

Back to top button