J&K भ्रष्टाचार मामला: सत्य पाल मलिक के आरोपों पर एक्शन में CBI, देशभर में 14 ठिकानों पर की छापेमारी

श्रीनगर

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में दो प्राथमिकी दर्ज करने के बाद गुरुवार को जम्मू, श्रीनगर, दिल्ली, मुंबई, उत्तर प्रदेश के नोएडा, केरल के तिरुवनंतपुरम और बिहार के दरभंगा में 14 स्थानों पर तलाशी ली।  मामले से परिचित लोगों ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सीबीआई ने जम्मू में एक वरिष्ठ आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारी के आवास पर छापेमारी की। चिनाब वैली पावर प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व अधिकारियों के आवासों और मुंबई, नई दिल्ली, बिहार और जम्मू में एक निर्माण कंपनी के परिसरों पर भी छापे मारे गए। मामले के जानकारों ने कहा कि 9,000 करोड़ रुपये की चिनाब वैली पावर प्रोजेक्ट्स (सीवीपीपीएल) के आवंटन में जम्मू-कश्मीर सरकार की शिकायत के बाद छापे मारे गए।

सीबीआई ने जम्मू-कश्मीर सरकार के अनुरोध पर दो अलग-अलग मामले दर्ज किए थे, जिनमें वर्ष 2017-18 में एक निजी कंपनी को जम्मू-कश्मीर कर्मचारी स्वास्थ्य देखभाल बीमा योजना का कॉन्ट्रैक्ट देने और 60 करोड़ रुपये (लगभग) जारी करने में कदाचार के आरोप और वर्ष 2019 में एक निजी फर्म को किरू हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट (एचईपी) के सिविल कार्यों के लिए 2,200 करोड़ (लगभग) के कॉन्ट्रैक्ट देने के आरोप शामिल हैं।

सीवीपीपीएल एनएचपीसी लिमिटेड और जम्मू और कश्मीर राज्य विद्युत विकास निगम (जेकेएसपीडीसी) का एक संयुक्त उद्यम है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने हाल ही में आरोप लगाया था कि उन्हें दो फाइलों को क्लियर करने के लिए 300 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया था। मलिक के आरोप के बाद, जम्मू-कश्मीर सरकार ने आरोपों की जांच के लिए सीबीआई से संपर्क किया था।

Related Articles

Back to top button