दिल्ली के बाद कोलकाता दुनिया का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर

कोलकाता
एचइआइ एसओजीए की हालिया रिपोर्ट के अनुसार, कोलकाता दुनिया का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर है, जो राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बाद दूसरे स्थान पर है। रिपोर्ट में हवा में पीएम 2.5 और नाइट्रोजन डाइआक्साइड की मात्रा के आधार पर यह कहा गया है कि भारत के इन दो शीर्ष शहरों में जनसंख्या की भीड़ इस नकारात्मक गुणवत्ता सूची में आने के पीछे प्रमुख योगदान कारक रही है। सूची में शामिल होने वाला एकमात्र अन्य भारतीय शहर देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई है, जो दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 14 वें स्थान पर है।

पर्यावरण विशेषज्ञों की राय
हालांकि, पर्यावरण विशेषज्ञों की राय है कि जनसंख्या के अलावा कोलकाता में इस उच्च वायु प्रदूषण दर में योगदान देने वाले अन्य कारक भी हैं, जिनमें से सबसे प्रमुख आटोमोबाइल ईंधन उत्सर्जन है, जो प्रदूषण में 60 प्रतिशत का योगदान देता है। हाल में कोलकाता प्रेस क्लब ने मीडियाकर्मियों के लिए वायु गुणवत्ता नेतृत्व पर एक कार्यशाला आयोजित की, जिसमें बोस संस्थान के प्रोफेसर अभिजीत चट्टोपाध्याय, पर्यावरण वैज्ञानिक दीपांजलि मजूमदार और पर्यावरण कार्यकर्ता विनय जाजू जैसे पर्यावरण विशेषज्ञों ने भाग लिया। मजूमदार और जाजू दोनों ने यह स्वीकार करते हुए कहा कि जनसंख्या की भीड़ के अलावा शहर में वायु प्रदूषण की इस उच्च दर में आटोमोबाइल ईंधन उत्सर्जन सबसे प्रमुख कारक है।

कोयले से खुले में खाना पकाने से भी बढ़ रहा प्रदूषण
उन्होंने कहा कि कई अन्य मानव निर्मित कारक हैं जैसे असंख्य स्ट्रीट फूड विक्रेता जो कोयले के ओवन या मिट्टी के तेल के ओवन पर खुले में खाना पकाते हैं, जिससे प्रदूषण बढ़ रहा है। चट्टोपाध्याय के अनुसार दूसरा प्रमुख कारण खुले स्थान में कूड़ा-करकट को अंधाधुंध जलाना है। उन्होंने कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के सभी 144 वार्डो में कचरा अलगाव प्रणाली शुरू करने पर जोर दिया। तीसरा कारक शहर में अचल संपत्ति गतिविधि है, विशेष रूप से पूर्वी मेट्रोपालिटन बाईपास से सटे क्षेत्र में, जिसे कोलकाता का लंग्स माना जाता था। निर्माण सामग्री का ढेर ऊंचा होता है जिसके परिणामस्वरूप प्रदूषणकारी वस्तुएं हवा में मिल जाती हैं।

 रियल एस्टेट का बढ़ता कारोबार भी कारण
पर्यावरणविदों ने रियल एस्टेट प्रमोटरों के खिलाफ निगम, पुलिस और पर्यावरण विभाग के अधिकारियों द्वारा संयुक्त कार्रवाई की वकालत की। सोमेंद्र मोहन घोष के अनुसार, विशेष रूप से पूर्वी मेट्रोपालिटन बाईपास क्षेत्र में रियल एस्टेट कारोबार के तेजी से विस्तार, शहर में जल निकायों और हरियाली वाले क्षेत्रों के प्रतिशत में तेज गिरावट आई है। उन्होंने कहा, इसलिए, प्रदूषण दर को और बढऩे से रोकने के लिए सरकार और निगम अधिकारियों को हरित पैच पर या जल निकायों को भरने के माध्यम से आगे के निर्माण को रोकने के लिए तत्काल उपाय करना चाहिए।

Related Articles

Back to top button