4 दिन से लापता रिजॉर्ट रिसेप्शनिस्ट का मर्डर, BJP नेता का बेटा गिरफ्तार

पौड़ी गढ़वाल
पौड़ी गढ़वाल जिले के यमकेश्वर विधानसभा इलाके के एक प्राइवेट रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या कर दी गई है. उसे पहाड़ी से नीचे गंगा में धक्का दे दिया गया था. 19 साल की अंकिता बीते 18-19 सितंबर से गायब थी. सोशल मीडिया पर गुमशुदा के पक्ष में कैंपेन चल रहा था.

हालांकि, अभी तक युवती का शव बरामद नहीं हुआ है. पुलिस और SDRF की टीमें जिला पावर हाउस के पास शक्ति नहर में तलाशी अभियान चला रही हैं. मगर, आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने खुलासा कर दिया है कि 18 तारीख की रात में ही उसकी हत्या कर दी गई थी.

पुलिस ने इस मामले में बीजेपी नेता के बेटे पुलकित आर्य सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. सभी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. पुलकित आर्य ही उस रिजॉर्ट का संचालक था, जहां अंकिता काम करती थी. युवती के लापता होने के बाद से रिजॉर्ट संचालक और मैनेजर फरार हो गए थे.

तीनों आरोपी गिरफ्तार- DGP
राज्य के डीजीपी अशोक कुमार ने कहा, "यह बहुत ही दुखद घटना है. लक्ष्मण झूला थाना क्षेत्र के पास एक प्राइवेट रिजॉर्ट है. उसमें श्रीकोट गांव की एक लड़की काम करती थी. वह 5 दिन से गायब चल रही थी. यह इलाका राजस्व पुलिस का क्षेत्र पड़ता है. उसमें रेगुलर पुलिस का हस्तक्षेप नहीं है."  

उन्होंने आगे बताया, "राजस्व पुलिस में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज हुई थी, जो बीते दिन ही रेगुलर पुलिस को ट्रांसफर हुई है. 24 घंटे में लक्ष्मण झूला पुलिस ने मुख्य आरोपी पुलकित आर्य सहित तीन आरोपियों ने गिरफ्तार कर लिया है. आगे की कार्यवाही की जा रही है."

ऋषिकेश से घूम कर लौटने के बाद लापता हुई युवती- पुलकित  
पौड़ी गढ़वाल के श्रीकोट गांव निवासी अंकिता भंडारी गंगा भोगपुर के निजी रिजॉर्ट में कुछ महीने से रिसेप्शनिस्ट का काम कर रही थी. रिजॉर्ट के संचालक पुलकित आर्य ने पुलिस को बताया, "रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी एक अलग कमरे में रहती थी. कुछ दिनों से वह मानसिक तनाव से गुजर रही थी. इसी के चलते 18 सितंबर को उसे ऋषिकेश घुमाने के लिए ले गए थे."

उसने आगे बताया, "देर रात वहां से वापस लौट आए. इसके बाद रिजॉर्ट में बने अलग-अलग कमरों में सभी लोग सोने चले गए. मगर, 19 सितंबर की सुबह अंकिता अपने कमरे से गायब थी." पुलिस की जांच में यह कहानी झूठी पाई गई.

अलग-अलग बयान दे रहे थे रिजॉर्ट कर्मचारी
दूसरी तरफ, अपनी बेटी के गायब होने की सूचना पर उसके पिता गंगा भोगपुर पहुंचे. इस दौरान युवती के परिजनों ने रिजॉर्ट में मौजूद कर्मचारियों से पूछताछ की. इस दौरान सभी ने अलग-अलग बातें बताईं. इसके बाद रिजॉर्ट संचालक और कर्मचारियों संदिग्ध भूमिका को लेकर पुलिस में शिकायत दी गई.

इसके अलावा, अंकिता भंडारी के गायब होने को लेकर उत्तराखंड के विधायक उमेश कुमार समेत पत्रकारों और संगठनों के लोगों ने सोशल मीडिया पर कैंपेन छेड़ दिया. इसके चलते पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए तीन आरोपियों रिजॉर्ट मालिक पुलकित आर्य, मैनेजर सौरभ भास्कर और असिस्टेंट मैनेजर अंकित गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने ऐसे किया मामले का खुलासा
पुलिस के पास मामले की जांच पहुंचने के बाद सभी बयानों को इलाके में लगे सीसीटीवी फुटेज की रिकॉर्डिंग और मोबाइल सर्विलांस के जरिये जांचा गया. आरोपियों ने बताया था कि वे 18 सितंबर को ऋषिकेश से घूमकर आने के बाद अपने-अपने कमरे में सोने चले गए थे. पुलिस ने ऋषिकेश जाने के दौरान रास्ते के सीसीटीवी फुटेज जांचे.

बैराज पर लगे सीसीटीवी कैमरे से पुष्टि हुई. इसमें चार लोग जाते हुए दिखाई दिए. मगर, लौटते समय सिर्फ तीन लोग ही सीसीटीवी में कैद हुए. पुलिस ने इसके बाद पुलकित सहित तीनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया. सख्ती से पूछताछ की, तो बताया कि रास्ते में किसी बात को लेकर अंकिता से झगड़ा हो गया था.

इसके बाद आरोपियों ने अंकिता भंडारी को पहाड़ी से गंगा में धक्का दे दिया. हालांकि, हत्या के पीछे क्या कारण रहे, इसकी जांच अभी पुलिस कर रही है.

Related Articles

Back to top button