National News : मणिपुर में जनता की नारजगी, मुख्य आरोपी का घर फूंका, जाने पिछले 24 घंटे में क्या-क्या हुआ?

National News : मणिपुर के कांगपोकपी जिले में महिलाओं को भीड़ द्वारा नग्न अवस्था में घुमाते हुए दिखाया गया है। आरोप है कि महिलाओं का गैंगरेप भी किया गया।

Latest National News : उज्जवल प्रदेश, इम्फाल. मणिपुर में भीड़ द्वारा दो महिलाओं को नंगा करके घुमाने का वीडियो वायरल होने से बवाल मचा हुआ है। वीडियो सामने आने के दो दिन बाद मुख्य आरोपी के घर को शुक्रवार को उपद्रवियों ने जला दिया। वायरल वीडियो में मणिपुर के कांगपोकपी जिले में महिलाओं को भीड़ द्वारा नग्न अवस्था में घुमाते हुए दिखाया गया है। आरोप है कि महिलाओं का गैंगरेप भी किया गया।

कांगपोकपी जिले के एक गांव में हुई यह घटना 3 मई को जातीय हिंसा भड़कने के एक दिन बाद हुई। हालांकि इसके फुटेज बुधवार को ही सामने आए। सोशल मीडिया में तेजी से फैल गया। सरकार के आदेश के बाद इसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हटा लिया गया।

इस मामले में चार आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है. इस बीच, शुक्रवार को नाराज भीड़ ने हैवानियत के मुख्य आरोपी का घर जला दिया है. घटना चेकमाई इलाके की है.

बता दें कि मणिपुर के कांगपोकपी जिले के एक गांव में कुकी-जोमी समुदाय की दो महिलाओं से दरिंदगी का एक वीडियो बुधवार को वायरल हुआ था. ये घटना 4 मई की बताई गई है. इस मामले में पीड़ित परिवार की तरफ से 18 मई को शिकायत की गई थी और पुलिस ने 21 मई को एफआईआर दर्ज कर ली थी. लेकिन, आरोपियों की गिरफ्तारी ढाई महीने बाद भी नहीं की गई थी. दो दिन पहले मामला सामने आया और देशभर में नाराजगी बढ़ी तो मणिपुर पुलिस एक्शन में आई और 24 घंटे के अंदर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

‘स्थानीय पुलिस ने एक्शन नहीं लिया’

मणिपुर पुलिस ने दावा किया है कि उसने घटना के मुख्य साजिशकर्ता और आरोपी हेरोदास सिंह को भी अरेस्ट कर लिया है. थोउबाल जिले से पहली गिरफ्तारी हुई थी. मणिपुर की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने वायरल वीडियो पर बयान दिया है. उन्होंने कहा- मैंने डीजीपी को अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज करने और कड़ी सजा दिलाए जाने के लिए तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया है. डीजीपी से आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भी कहा है. जिस थाने में इस घटना की शिकायत दर्ज कराई गई, वहां के पुलिस अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की.

‘इंटरनेट बैन हटने के बाद वीडियो वायरल’

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मणिपुर के चीफ सेक्रेटरी और DGP को नोटिस भेजा है और 4 सप्ताह में जवाब मांगा है. सरकार ने ट्विटर समेत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हैवानियत के वीडियो तत्काल प्रभाव से हटाने के लिए कहा है. सरकार का कहना है कि मामले में जांच चल रही है. राज्य में इंटरनेट पर बैन हटने के बाद वीडियो वायरल हुआ है. पुलिस ने बुधवार रात को थौबल जिले के नोंगपोक सेकमाई पुलिस स्टेशन में अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण, गैंगरेप और हत्या की FIR दर्ज की है.

मौत की सजा दिलवाएंगे: मणिपुर सीएम

मणिपुर में कानून व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं. मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा कि ये मानवता के खिलाफ अपराध है. आरोपियों को सजा-ए-मौत दिलाने की कोशिश होगी. हमने ऑपरेशन शुरू कर दिया है. इसमें शामिल लोगों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा और कहा- प्रधानमंत्री को 70 दिन बाद मणिपुर याद आया है. वहां एक्शन लेने की जरूरत है.

‘ये अथाह दर्द और पीड़ा का मुद्दा’

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी मणिपुर में हुई दरिंदगी का मुद्दा उठाया है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बोला और ट्वीट कर लिखा- ये देश के शर्मसार होने का मामला नहीं है, बल्कि मणिपुर की महिलाओं के अथाह दर्द और पीड़ा का मुद्दा है. वहीं, दिल्ली के जंतर-मंतर पर मणिपुर हिंसा को लेकर महिला और यूथ कांग्रेस ने प्रदर्शन किया है और प्रधानमंत्री से इस्तीफे की मांग की है.

‘4 मई को क्या हुआ मणिपुर में’

बताते चलें कि मणिपुर में पहली बार 3 मई को हिंसा हुई थी. तब से लगातार आगजनी-तोड़फोड़ की घटनाएं सामने आती रहीं. हालांकि, पिछले कुछ दिन से मणिपुर धीरे-धीरे सामान्य स्थिति की ओर लौट रहा था. इंटरनेट समेत अन्य सेवाएं भी बहाल की जा रही थीं. इस बीच, बुधवार को सोशल वीडियो प्लेटफॉर्म पर एक वीडियो वायरल हुआ और राज्य एक बार फिर तनाव की चपेट में आ गया. वीडियो में भीड़ ने कथित तौर पर एक महिला के साथ गैंगरेप किया और जब उसके भाई-पिता ने विरोध किया तो उनकी हत्या कर दी गई. एक अन्य महिला के साथ भी गैंगरेप हुआ है. इस घटना से आक्रोश फैल गया. राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने वारदात की निंदा की. विपक्षी दलों ने संसद में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार को घेरा.

पिछले 24 घंटे में और क्या-क्या हुआ…

  • – वीडियो वायरल होने के एक दिन बाद यानी गुरुवार को कुकी समुदाय ने चुराचांदपुर में विरोध मार्च निकाला. प्रदर्शन करने वाले लोग काले कपड़े पहने हुए थे. उन्होंने उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की, जिन्होंने दो महिलाओं की परेड कराई और उनके साथ गैंगरेप किया.
  • – मणिपुर पुलिस ने बताया कि थौबल जिले के नोंगपोक सेकमाई पुलिस स्टेशन में एफआईआर की गई है. सबसे पहले मुख्य आरोपी पकड़ा गया. कुछ घंटे बाद तीन और गिरफ्तारियां की गईं. कुल चार लोग अरेस्ट हुए हैं.
  • – सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस पीएस नरसिम्हा और जस्टिस मनोज मिश्रा की बेंच ने वीडियो का संज्ञान लिया और केंद्र और मणिपुर सरकार से तत्काल कार्रवाई करने को कहा. सीजेआई ने कहा, मुझे लगता है कि अब समय आ गया है कि सरकार वास्तव में कदम उठाए और कार्रवाई करे. यह बिल्कुल अस्वीकार्य है. हम सरकार को कार्रवाई करने के लिए थोड़ा समय देंगे. अगर जमीन पर एक्शन नहीं लिया गया तो हम कदम उठाएंगे.

Related Articles

Back to top button