National Political News : इंडियन मुजाहिदीन और ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम में भी INDIA था: PM मोदी

National Political News : इंडिया नाम लगा लेने से ही नहीं हो जाता. ईस्ट इंडिया कंपनी ने भी इंडिया लगाया था और इंडियन मुजाहिद्दीन के नाम में भी इंडिया है.

National Political News: उज्जवल प्रदेश, नईदिल्ली. मॉनसून सत्र में मणिपुर पर जारी संग्राम के बीच मंगलवार को बीजेपी की संसदीय दल की बैठक हुई. इस बैठक को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया. इस दौरान पीएम ने विपक्षी गठबंधन पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा, इंडिया नाम लगा लेने से ही नहीं हो जाता. ईस्ट इंडिया कंपनी ने भी इंडिया लगाया था और इंडियन मुजाहिद्दीन के नाम में भी इंडिया है.

पीएम मोदी ने कहा, विपक्ष बिखरा हुआ है और हताश है. विपक्ष के रवैये से ऐसे लग रहा है कि उनको लंबे समय तक सत्ता में आने की इच्छा नहीं है. पीएम मोदी ने संसदीय दल की बैठक में 15 अगस्त को हर घर झंडा लगाने के कार्यक्रम के बारे में भी जानकारी दी.

मॉनसून सत्र में यह पहली संसदीय दल की बैठक थी. यह बैठक संसद की लाइब्रेरी बिल्डिंग में हुई. इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत तमाम केंद्रीय मंत्री मौजूद रहे.

उन्होंने कहा कि ये लोग भ्रमित हैं और तय ही नहीं कर पाते कि क्या करना है। यही नहीं उन्होंने कहा कि इनके बर्ताव से ऐसा लगता है कि ये लोग कई दशक तक सत्ता में नहीं आना चाहते। प्रधानमंत्री ने कहा कि विपक्ष बिखरा हुआ और हताश है। उन्होंने इस दौरान विपक्षी महागठबंधन के INDIA के तौर पर नए नामकरण पर भी निशाना साधा।

पीएम मोदी ने कहा कि नाम में इंडिया या इंडियन लगा लेने से कोई भारतीय नहीं होता। उन्होंने इस दौरान आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन और ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इंडियन मुजाहिदीन और ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम में भी इंडिया था। प्रधानमंत्री के रुख से साफ है कि वह मणिपुर पर संसद में बयान देने की विपक्ष की मांग के आगे झुकने वाले नहीं है। वहीं कांग्रेस की प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि हमारी मांग में क्या गलत है। पीएम मोदी ने इतनी बड़ी घटना के बाद भी मणिपुर पर सिर्फ 36 सेकेंड बोला और मीडिया ने चला दिया कि प्रधानमंत्री ने चुप्पी तोड़ दी।

पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया का भी PM मोदी ने लिया नाम

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया का भी नाम लिया। उन्होंने कहा कि इस संगठन के नाम में भी तो इंडिया है। इस बीच INDIA में शामिल विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी शुरू कर दी है। टीएमसी के एक सांसद ने इसका दावा किया है। अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा में ही लाया जाता है और ऐसे प्रस्ताव में यदि सरकार हार जाती है तो फिर प्रधानमंत्री को पद से इस्तीफा देना पड़ता है। बता दें कि लोकसभा में भाजपा अपने दम पर ही बड़े बहुमत में। वहीं एनडीए को जोड़ लें तो सरकार के पास 350 से ज्यादा सीटें हैं।

50 सांसदों के समर्थन से ही आता है अविश्वास प्रस्ताव

हालांक विपक्षी नेताओं का कहना है कि हम ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि पीएम मोदी पर दबाव बने और वह मणिपुर के मसले पर संसद में बोलें। लोकसभा के नियमों के मुताबिक कम से कम 50 सांसदों के समर्थन के बाद ही अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकता है। बता दें कि कांग्रेस के पास 50 के करीब ही विधायक हैं। गौरतलब है कि सरकार की ओर से कहा गया है कि होम मिनिस्टर अमित शाह संसद में मणिपुर के मसले पर बहस का जवाब देंगे। हालांकि विपक्ष इस बात पर ही अड़ा है कि पीएम मोदी ही बयान दें।

 

 

 

Related Articles

Back to top button