पहली बार अपराध करने वालों की संख्या बढ़ी, कोरोना-लॉकडाउन में रोजी-रोजगार छिनने से बने यह हालात

नई दिल्ली
 

दिल्ली में पिछले साल 11 फरवरी की रात को ग्रीन पार्क के पास एक युवक को एचडीएफसी बैंक के एटीएम से छेड़छाड़ करते देखा गया। यह मामला सफदरजंग एन्क्लेव पुलिस स्टेशन में दर्ज है। सिक्योरिटी ऑफिसर ने बताया कि चोर ने पेचकश और एक जोड़ी सरौता का इस्तेमाल करके एटीएम को खोलने की कोशिश कर रहा था। हालांकि, पुलिस रिकॉर्ड में इसकी जानकारी नहीं दी गई है कि उसने अपराध कैसे और क्यों किया। 21 वर्षीय दीपक राम आंध्र प्रदेश के चित्तूर में रसोइए के रूप में काम करता था। 2020 में कोविड -19 महामारी में देशव्यापी तालाबंदी के कारण उनसे नौकरी खो दी। आंध्र भोजनालय बंद हो गया था। वह जनवरी, 2021 में मजबूरन अपने गृह राज्य उत्तराखंड लौट आया लेकिन उसे यहां कोई नौकरी नहीं मिली।

लॉकडाउन में नौकरी गई तो घर लौटा फिर…
इसके बाद राम दिल्ली गया और एक दोस्त के घर रुका। 11 फरवरी की शाम को उसने दक्षिणी दिल्ली के हार्डवेयर स्टोर से एक जोड़ी सरौता और पेचकश खरीदा। उसने एटीएम से पैसे चुराने का प्रयास किया। उसने सोचा कि वह डकैती करने के बाद घर लौट आएगा और फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखेघा। लेकिन राम को उस रात एक घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया गया। उसका कोई पूर्व आपराधिक रिकॉर्ड नहीं मिला।
 
2 साल में ऐसे 70 लोगों को दिल्ली पुलिस ने पकड़ा
महामारी शुरू होने के बाद से पिछले दो वर्षों में गिरफ्तार किए गए कम से कम 70 पुरुषों और महिलाओं की कहानियां राम की कहानी के समान हैं। उन्होंने भी तालाबंदी के कारण अपनी नौकरी खो दी और अपराध करने लगे। फैक्ट्री के कर्मचारी, सॉफ्टवेयर कंपनियों के प्रबंधक, रेस्तरां के कर्मचारी, दिल्ली के बाजारों में दुकानों पर मदद करने वाले… इस तरह के बिना किसी पूर्व रिकॉर्ड के कम से कम 70 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जो महामारी के दौरान नौकरी गंवाने के बाद अपराध करते पकड़े गए।

 
वास्तविक आंकड़े पुलिस रिकॉर्ड से ज्यादा
25 मार्च, 2020 लॉकडाउन का पहला दिन था। इसके बाद से गिरफ्तारी के ऐसे मामले बढ़े हैं। ये तो वो मामले हैं जो पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज हैं। वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती है, जिसमें कोई दोराय नहीं है। अपराधों के विवरण से यह भी पता चलता है कि वे कैसे चोरी, स्नैचिंग, डकैती, साइबर धोखाधड़ी या ड्रग खच्चरों के रूप में काम करने लगे।

 

Related Articles

Back to top button